Tractor Rally Violence: कांग्रेस बोली- ट्रैक्टर रैली हिंसा गृह मंत्री की नाकामी, बर्खास्त हों अमित शाह….

0

कृषि कानूनों के विरोध में जारी किसान आंदोलन में फूट हो गई है। दो किसान संगठनों ने आंदोलन से खुद को अलग करने का ऐलान किया है। गणतंत्र दिवस पर मंगलवार को उपद्रवियों ने ट्रैक्टर परेड के दौरान दिल्ली में खूब बवाल मचा है। इस दौरान पुलिस किसानों के बीच जमकर झड़प भी हुई थी। इसके बाद दो किसान संगठनों ने खुद को अलग करते हुए चिल्ला बॉर्डर से आंदोलन खत्म करने का ऐलान किया है।

कांग्रेस ने कहा कि सरकार का जोर किसान आंदोलन को बदनाम करने पर है। कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि कानून व्यवस्था खुफिया तंत्र की नाकामी के लिए गृह मंत्री अमित शाह बर्खास्त हो। उपद्रवियों की अगुवाई कर रहे अवंछित तत्वों पर मुकदमे दर्ज ना कर किसान मोर्चा नेताओॆं पर FIR दर्ज कर मोदी सरकार की उपद्रवियों के साथ साजिश को बेनकाब किया है। किसान नेता वीएम सिंह और भानु प्रताब सिंह ने अपना आंदोलन खत्म करने का फैसला किया है। ये किसान नेता केंद्र सरकार के तीन नए कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग कर रहे थे। हालांकि, गणतंत्र दिवस को हुई हिंसा के बाद उन्होंने आंदोलन से हटने का फैसला लिया है।

भारतीय किसान यूनियन भानु के अध्यक्ष भानु प्रताप सिंह ने मंगलवार को दिल्ली हिंसा की घटना की निंदा की है। दरअसल, भानु गुट चिल्ला बॉर्डर पर धरना दे रहा था। गौरतलब है कि स्वराज अभियान के नेता योगेंद्र यादव सहित कई किसान नेताओं पर मामला दर्ज हुआ है। समाचार एजेंसी ANI के अनुसार दिल्ली पुलिस की एफआईआर में किसान ट्रैक्टर रैली को लेकर जारी एनओसी के उल्लंघन पर किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत, किसान नेता दर्शन पाल, राजिंदर सिंह, बलबीर सिंह राजेवाल, बूटा सिंह बुर्जिल और जोगिंदर सिंह उग्राहां के नाम है।

Read More…
Farmers Tractor Rally Violence: कौन है वो शख्स जिसने लाल किले पर फहराया खालसा पंथ का झंडा….
Farmers Tractor Rally Violence: डकैती और जानलेवा हमले की धाराओं में होगा केस दर्ज, दिल्ली क्राइम ब्रांच करेगी जांच….

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here