बेलारूस में चुनाव: 1994 से राष्ट्रपति लुकाशेंको की फिर भारी जीत, कड़ी टक्कर के बाद स्वेतलाना हारीं

0

बेलारूस के चुनाव में एक बार फिर अलेक्जेंडर लुकाशंकों ने जीत दर्ज की है। लुकाशेंको 80.23 फीसदी वोट हासिल किए हैं। जबकि उनकी विपक्षी स्वेतलाना को 7 फिसदी वोट मिल सके हैं। स्वेतलाना ने चुनाव के नतीजों को मानने से इनकार कर दिया है। चुनावों में धांधली के आरोप लग रहे हैं। इसके चलते राजधानी मिंस्क सहित कई शहरों में प्रदर्शन शुरू हो गए हैं।

पुलिस ने प्रदर्शकारियों को खदड़ने के लिए पानी बौछारें, आंसू गैस के गोले और रबर की गलियां तक दागी हैं। यहां उग्र प्रदर्शन करने के आरोप में 3000 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है। रूस के राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन ने लुकाशेंको को चुनाव में जीत पर बधाई दी है। पोलैंड ने इस मामले को लेकर यूरोपियन यूनियन से विशेष समिट बुलाने की मांग की है। रूस की पश्चिमी सीमा से सटा बेलारूस 25 अगस्त 1991 को सोवियत संघ से अलग होकर आाजाद देश बना था। इसके बाद संविधान बनने पर जून 1994 में पहला राष्ट्रपति चुनाव हुआ। साल 1994 से लेकर अब तक पांच बार लुकाशेंकों चुनाव जीत चुके हैं।

लुकाशेंको को एक तानाशाह के तौर पर देखा जाता है। हर बार उन पर गड़बड़ी के आरोप लगते रहे हैं।प्रदर्शन कर रहे लोगों का वीडियो फुटे निकलकर सामने आया है। इसमें प्रदर्शनकारी मिंस्क में राष्ट्रपति लुकाशेंको के लिए चले जाओ के नारे लगा रहे हैं। ब्रेस्ट और जोडिनो शहर में भी ऐसे ही प्रदर्शन देखने को मिले हैं। बेलारूस में इंटरनेट सेवा को ब्लॉक कर दिया गया है।

Read More….
प्रोजेक्ट चीता: LAC पर तैनात हेरोन ड्रोन्स बनेंगे और घातक, मिसाइल और बम से होंगे लैस
Rajasthan: गहलोत गुट की मांग, पायलट खेमे के बागी विधायकों पर हो कार्रवाई

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here