पाकिस्तान ने चीनी कंपनियों को सोना-यूरेनियम खनन के पट्‌टे किए जारी, विरोध की आवाज मुखर

0

चीन के साथ सीमा विवाद को लेकर तनाव जारी है। भारत चीन की हर चाल को मात दे रहा है। लेकिन चीन अब भारत के पड़ोसी देशों में जाल बिछाता जा रहा है। नेपाल, बांग्लेदेश और पाकिस्तान में चीन अपनी जड़ें मजूबत करने में लगा है। इस बीच पाकिस्तान ने अंतराष्ट्रीय नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए चीन को गिलगित-बाल्टिस्तान में प्राकृति संसाधनों को लूटने की खुली छूट दे दी है।

पाकिस्तान की इमरान खान सरकार ने यहां पर सोने, यूरोनियम और मोलिब्डेनम के खनन के लिए चीनी कंपनियों को 2 हजार से अधिक पट्टे जारी कर दिए हैं। यूनाइटे़ड कश्मीर पीपुल्स नेशनल पार्टी के प्रवक्ता नासिर अजीज ने चीन और पाकिस्तान के बीच पक रही इस खिचड़ी की जानकारी साझा की है। उन्होंने कहा कि हम यहां के प्राकृतिक रिोसर्स पर पाकिस्तानी लूट के षड़यंत्र का पर्दाफास करेंगे। जेनेवा में यूनाइटेड नेशंस के चौथे कन्वेशन में यह मुद्दा उठाएंगे। बता दें कि चीन और पाकिस्तान मिलकर दियामार में सिंधु नदी पर दियामार बाशा बांध का निर्माण कर रहे हैं।

इस बांध को बनाने के लिए चीन पूरा पैसा लगा रहा है। पाकिस्तान सरकार ने 444 अरब (पाकिस्तानी रूपये) का कॉन्ट्रेक्ट चीनी कंपनी के साथ किया है। इस बांध का निर्माण में चीन की चाइना पॉवर कंपनी की 70 फीसदी हिस्सेदारी है। जबकि पाकिस्तान की फ्रंटियर वर्कर्स संगठन की 30 फीसदी हिस्सेदारी है। चीन हमेशा विवाद क्षेत्रों में अपना वर्चस्व कायम करना चाहता है। पाकिस्तान सरकार इस वक्त कर्ज के दौर से गुजर रही है। ऐसे में चीन के लिए एक बड़ा मौका हाथ लगा है।

Read More…
बेंगलुरु: फेसबुक पोस्ट से उबल पड़ा पूरा शहर, 60 पुलिसकर्मी घायल, दो की मौत
कृष्ण जन्माष्टमी: रोजाना एक लाख श्रद्धालुओं से भरे रहने वाले द्वारका नगरी में पसरा सन्नाटा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here