भारत की सख्ती पर China की नई चाल! पैंगोंग लेक से पीछे हटने को तैयार नहीं ड्रैगन

0

पूर्वी लद्दाख में तनाव को कम करने के लिए भारत और चीन के बीच 5वें दौर की बातचीत पर संश्य बना हुआ है। इससे पहले चार बार दोनों देशों के बीच सैन्य स्तर पर वार्ता हो चुकी है। लेकिन चीनी राजदूत सुन वीडॉन्ग के बयान के बाद भारत सख्त हो गया है। सरकार के नीतिकारों का मानना है कि राजदूत सुन वीडॉन्ग ने शी जिनपिंग की उस मंशा को साफ कर दिया है कि चीनी सेना पैंगोंग झील से नहीं हट सकती है। चीनी राजदूत के बयान ने एलएसी पर कोर कमांजडर स्तर की बातचीत से हल की उम्मीदों को खत्म कर दिया है।

रक्षा जानकारों का कहन है कि अगर चीन पैंगोंग त्सो झील से पीछे हटने को तैयार नहीं है तो भारत के सामने दो विकल्प हो सकते हैं। पहला- सेना चीन के अगली चाल को रोकने के लिए वहीं जमी रहे। दूसरा-अपनी जमीन से चीनी सैनिकों को पीछे हटाने के लिए जंग का रास्ता अपनाएँ। चीन के राजदूत वीडोन्ग ने कहा था कि पैंगोंग झील के उत्तरी किनारे पर चीन की पारंपरिक सीमा रेखा एलएसी के मुताबिक है। इस लिहाज से कोई नई बात नहीं है कि चीन ने एलएसी पर अपनी नई दावेदारी जताई है। चीनी राजदूत का कहना है कि चीन फिंगर पॉइंट-4 को अपनी सीमा मानता है।

बता दें कि फिंगर 4 से फिंगर 8 तक भारत अपना दावा जताता रहा है। फिंगर-4 पर भारतीय सेना की चौकी स्थापित है। अब यहां चीनी जवानों का जमावड़ा लगा है। बताया जा रहा है कि चीनी सेना 8 किलोमीटर तक भारतीय सीमा में घुस आई है। चीन की नई चाल सैटेलाइट तस्वीरों से सामने आई है।

Read More…
अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर 31 अगस्त तक रोक, सफर के लिए करना पड़ेगा और इंतजार
अमेरिकी राष्ट्रपति ने TikTok पर दिया बड़ा बयान, कहा-जल्द लग सकता है प्रतिबंध

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here