Dungarpur Violence: चार दिन के उपद्रव के बाद महापड़ाव खत्म, उदयपुर-अहमदाबाद हाईवे पर यातायात बहाल

0

शिक्षक भर्ती के अनारक्षित पदों को एसटी वर्ग भरने की मांग को लेकर रविवार को भी प्रदर्शन की आग सुलगती रही। सीएम गहलोत के निर्देश पर खेरवाड़ा में जनजाति अभ्यर्थियों के साथ अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों ने संयुक्त बैठक की। इसके बाद जनजाति अभ्यर्थियों ने डूंगरपुर जिले के कांकरी डूंगरी से धरना समाप्त करने का ऐलान किया। इसके साथ ही उजयपुर और अहमदाबाद हाईवे को खोल दिया गया है। लेकन शाम को झाड़ोल और ऋषभदेव में प्रदर्शनकाकरियों ने धावा बोल दिया।

ऋषभदेव में कस्बे के लोगों ने लाठी-हथियार लहराए तो प्रदर्शनकारी भाग छूटे। लेकिन पहाड़ियों पर पहुंचकर पथराव शुरू कर दिया। हालात पर काबू पाने के लिए पुलिस ने आंसू गेस के गोले दागे और रबर की गोलियां छोड़ी। इसके कुछ देर बाद झाड़ोल गांव में उदयपुर-झाड़ोल मार्ग को जाम करते हुए पुलिस पर पथराव कर दिया।  दोनों जगहों पर उपद्रवी पहाड़ियों पर डेरा डाले रहे।

डूंगरपुर जिले में हुई अराजकता को लेकर पुलिस ने 24 प्रकरण दर्ज किए हैं। पुलिस मुख्यालय ने रैपिड एक्शन फोर्स तैनात की है। पुलिस महानिदेशक भूपेंद्र सिंह ने बताया कि जान-माल की सुरक्षा के लिए गोली चलानी पड़ी। इसमें दो लोगों की मौत हो गई। जबकि दो लोग घायल हो गए हैं। भारी पुलिस बल के साथ आरएसी की 6 कंपनियों को तैनात किया गया है। बता दें कि शिक्षक भर्ती की मांग को लेकर अभ्यर्थी पिछले 7 सिंतबर से विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। प्रदर्शन करने वाले शिक्षक भर्ती के अनारक्षित 1167 पदों को एसटी वर्ग से भरने की मांग कर रहे हैं।

Read More…
Farm law protest: कृषि कानून के विरोध में किसानों का हल्ला बोल, संसद के पास ट्रैक्टर में लगाई आग
Dungarpur Violence: चार दिन के उपद्रव के बाद महापड़ाव खत्म, उदयपुर-अहमदाबाद हाईवे पर यातायात बहाल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here