Travel: घर बैठे विदेश यात्रा, वो कैसे संभव है?

0

अचानक व्हाट्सएप पर एक छोटा सा संदेश दिमाग में आया। मैंने इसे खोला और एक लिंक देखा। एक दोस्त के साथ लिखा, ‘मैं लॉन्ग ड्राइव के लिए इतना रो रहा था। यहां आओ, कार ले लो और अरिजीत सिंह को सुनने के लिए न्यूयॉर्क आ जाओ।’ सुचेतना पहले तो थोड़ी हैरान हुई। लिंक पर क्लिक करते ही वह चौंक गया। वही! कोलकाता के इस चार-दीवार वाले फ्लैट में बैठकर न्यूयॉर्क की सड़कों पर मैंने पैर रखा! तब से वह लॉकडाउन में पढ़ाई के समय को छोड़कर दिन-रात शहर में घूम रहे हैं।विदेश यात्रा में आ रही है रुकावट तो करें ये उपाय Dharm Tips

आप भी सुचेतना की तरह उस कड़ी की तलाश में हैं! शेष पता –

लैपटॉप या मोबाइल होना चाहिए! वहां आपको Google Play Store में वर्चुअल टूर के लिए विभिन्न ऐप्स मिलेंगे। कभी-कभी आपको अपनी व्यक्तिगत ईमेल आईडी और पासवर्ड से लॉग इन करना पड़ता है। इसकी दोबारा जरूरत नहीं है। अधिकांश को मुफ्त में डाउनलोड किया जा सकता है। वर्चुअल टूर्स की एक वेबसाइट भी है। आप musicaldrive.herokuapp.com पर जाकर भी विभिन्न शहरों की यात्रा कर सकते हैं। किसी भी ऐप में आप शहर को 360 डिग्री के एंगल पर देख सकते हैं।

क्या देखा जा सकता है?

1. आप दुनिया के किसी भी बड़े देश के विभिन्न संग्रहालयों में जा सकते हैं।

2. अगर आप लॉन्ग ड्राइव चाहते हैं, तो आप कार की पिछली सीट पर बैठ सकते हैं और टोरंटो से लॉस एंजिल्स तक ड्राइव कर सकते हैं।

3. आप ऐप के जरिए यूरोप के छोटे शहरों के गांवों में भी जा सकते हैं।

4. कोलकाता, दिल्ली, मुंबई, लखनऊ जैसे शहरों को भी एप के जरिए पूरी तरह से देखा जा सकता है।Your Kundli Says How Long You Live In Foriegn - आपकी कुंडली बताती है बन रहे  हैं विदेश जाने के योग, कब तक रहेंगे परदेश | Patrika News

ऐप क्रिएटर्स की तरह –

अर्पण मजूमदार दिल्ली आईआईटी में इंजीनियरिंग विभाग में रिसर्च कर रहे हैं। वर्चुअल टूर ऐप के बारे में उन्होंने aajkaal.in को बताया, ‘यह पहल बहुत पहले शुरू हो गई है। उदाहरण के लिए, बाजार में विभिन्न यात्रा वीडियो की सीडी उपलब्ध थीं। अगर आप YouTube पर जाते हैं तो भी आप अलग-अलग जगह देख सकते हैं। वास्तव में, अब इसे अलग तरह से परोसा गया है। ऐप्स बनाना मुश्किल नहीं है। इस तरह के ऐप की लोकप्रियता अलग-अलग देशों में बनी है। और यह लॉकडाउन के बाद से इसे और भी अधिक बनाता है। राज्य में फिर से लॉकडाउन। विदेश में कोई भी इस समय अपने देश के किसी भी हिस्से में चाहे तो पहुंच ही नहीं सकता। इस समय इस वर्चुअल टूर ऐप या वेबसाइट के माध्यम से आप जहां चाहें वहां पहुंचा जा सकता है। मेरे अपने फोन में भी ऐसे ऐप्स हैं। मुझे ऐसा लग रहा है कि मैं सचमुच गाड़ी चला रहा हूं। एक और महत्वपूर्ण बात यह है कि हम चाहें तो बहुत से लोगों के पास कहानियों या फिल्मों में दिखाई देने वाली विदेशी तस्वीरों को देखने की आर्थिक क्षमता नहीं होती है। बहुतों की यह इच्छा पूरी होगी। कलाकार वैन गॉग के बारे में सभी ने खूब बातें कीं। उनका संग्रहालय अब वर्चुअल टूर एप के जरिए भी देखा जा सकता है। नतीजतन, लॉकडाउन के बावजूद, मुझे उम्मीद है कि इस प्रकार के ऐप के साथ सभी के पास घर पर अच्छा समय होगा।विदेश यात्रा तथा विदेश में बसना | Kiara Astrology

मनोवैज्ञानिकों की तरह-

आभासी दौरे के बारे में, मनोवैज्ञानिक सौविक चक्रवर्ती ने विस्तार से बताया, ‘एक समय की बात है, इतनी गर्म छुट्टी के बाद, दादी अपनी दादी के बगल में लेट जाती थीं और कहानी सुनती थीं और तालाब या नदी, या हरियाली से घिरे गाँव में पहुँचती थीं। आपको कहानी की किताबें ऐसी ही पढ़नी होंगी, है ना! लेकिन हजारों नौकरियों की भीड़ में बचपन की काल्पनिक दुनिया सबको याद आती है! लॉकडाउन लेकिन वो यादें भी लौटा दीं। हालांकि, इस मामले में, हमें इंटरनेट को धन्यवाद देना होगा। इसकी दौलत के कारण अब आप घर बैठे दुनिया के किसी भी हिस्से में पहुंच सकते हैं। मुझे ऐसा लगता है कि इसके कई फायदे हैं। क्योंकि लोग दिनभर घर में बैठकर नेगेटिव न्यूज देख रहे हैं। आप चाहकर भी अपने पैर घर के बाहर नहीं रख सकते। ऐसे में अगर आप अपनी पसंद के गाने सुनते हुए वर्चुअल टूर करते हैं तो आप अपने दिमाग को बुरी खबर, घबराहट और डर से दूर रख सकते हैं। दिन-ब-दिन दिमाग पर पड़ने वाले तनाव से दूर रहकर, कम से कम दिमाग को दूर रखने की आदत बनाकर, व्यक्ति अन्य रचनात्मक गतिविधियों पर ध्यान केंद्रित कर सकता है। इसके अलावा, यह बच्चों के लिए भी मजेदार है। दिन भर कंक्रीट की दीवार में फंसे रहना उनकी कल्पनाशक्ति को नष्ट कर रहा है। वे वर्चुअल टूर पर भी अच्छा समय बिताएंगे।विदेश घूमने से पहले करें मनी मैनेजमेंट, कैश और ट्रैवल कार्ड में चुनें बेहतर  विकल्प - The Financial Express

डॉक्टरों के मुताबिक-

फिजिशियन मृणमय दास ने कहा, ‘वर्चुअल टूर जहां मानसिक स्वास्थ्य के लिए अच्छे हैं, वहीं कुछ महत्वपूर्ण पहलुओं को ध्यान में रखना है। अत्यधिक मात्रा में डिवाइस का उपयोग करना ठीक नहीं है। फिर भी लॉकडाउन के चलते ज्यादातर लोग अपना ज्यादातर समय स्मार्ट फोन पर ही बिताते हैं। वह रात में भी जागता है और फोन करता है। इस मामले में ऐसा न करें। आभासी यात्राओं के लिए बड़ी स्क्रीन का उपयोग करें। टीवी पर देखें। या लैपटॉप पर। स्क्रीन से आंख की एक निश्चित दूरी बनाए रखें। इसे लगातार देखा भी नहीं जाना चाहिए। ऑनलाइन क्लास, वर्क फ्रॉम होम की वजह से मुझे काफी देर तक स्क्रीन पर देखना पड़ता है। उस स्थिति में, मैं दौरे पर रुकने के लिए एक विशिष्ट समय चुनने का सुझाव दूंगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here