Covid Cases में वृद्धि के कारण दक्षिण कोरियाई स्कूलों में बढ़ी सख्ती

0

दक्षिण कोरियाई शिक्षा मंत्रालय ने आज बढ़ते संक्रमण के बीच सभी स्कूलों, विश्वविद्यालयों और निजी शैक्षिक सुविधाओं में कोविड 19 मानदंडों की जांच के लिए तीन सप्ताह की गहन अवधि की घोषणा की। योनहाप की रिपोर्ट के अनुसार वसंत सेमेस्टर शुरू होने के डेढ़ महीने बाद छात्रों और शिक्षकों के बीच कोविड के मामलों की संख्या हाल ही में 2,000 से अधिक हो गई है।

मंत्रालय ने कहा, विशेष अवधि के दौरान, छात्रों, शिक्षकों और स्कूल के अधिकारियों को पांच बुनियादी एंटी-वायरस मानदंडों का पूरी तरह से निरीक्षण करने के लिए कहा जाएगा। जैसे मास्क-पहना और लगातार हाथ धोना, सोशल डिस्टन्सिंग, वायरस परीक्षण, भीड़ भरे स्थानों से दूर रहना, और भोजन निर्धारित स्थानों पर चुपचाप खाना ।

मंत्रालय ने कहा कि सभी स्कूलों को अपने छात्रों की स्कूल की गतिविधियों पर निगरानी को मजबूत करने और कोरोनावायरस संदिग्ध को तुरंत कक्षाओं और स्कूल के काम से हटाने के लिए कहा जाएगा।

सियोल, जो हाल ही में 600 से 700 तक राष्ट्र के नए दैनिक कोविड मामलों में से एक तिहाई के लिए जिम्मेदार है, वहां मंत्रालय अगले महीने की शुरूआत में संदिग्ध लक्षणों की परवाह किए बिना, छात्रों, शिक्षकों और स्कूल अधिकारियों पर कोरोनावायरस परीक्षण करेगा।

मंत्रालय ने बताया कि प्रीमेप्टिव पोलीमरेज चेन रिएक्शन ‘पीसीआर’ परीक्षणों के लिए, नर्सों और मेडिकल टेक्नोलॉजिस्टों की विशेष तीन-टीमें राजधानी के स्कूलों का दौरा करेंगी।

शिक्षा मंत्री यूओ यूं हे ने कहा हालांकि, पीसीआर परीक्षणों के नियोजित विस्तार के बावजूद, कोविड 19 के लिए तेजी से स्व-परीक्षण किट स्थानीय स्कूलों के लिए नहीं पेश किए जाएंगे।

यू ने कहा “अभी तक एक स्व-परीक्षण किट नहीं है जिसे खाद्य और औषधि सुरक्षा मंत्रालय द्वारा अनुमोदित किया गया है, और कई विशेषज्ञों को अभी भी किट की सटीकता और प्रभावशीलता पर असहमति है। इस प्रकार, सरकार उन किटों को स्कूलों में पेश नहीं करेगी”।

–आईएएनएस

SHARE
Previous articleअसम कोविद -19 संकट: कोविद -19 रोगी का मृत शरीर उदालगुरी अस्पताल के अलगाव वार्ड के बरामदे में ‘त्याग’ छोड़ दिया
Next articleअसम: निशिता गोस्वामी, आईपीएस अधिकारी दिगंत बोरा एवीवर 2020 पुरस्कार विजेताओं के बीच
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here