प्रख्यात भौतिक विज्ञानी Arvind पंजाबी विश्वविद्यालय के कुलपति नियुक्त

0

जाने-माने भौतिक विज्ञानी और इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस एंड रिसर्च (आईआईएसईआर), मोहाली के डीन, रिसर्च एंड डेवलपमेंट अरविंद को मंगलवार को तीन साल की अवधि के लिए पंजाबी यूनिवर्सिटी पटियाला का कुलपति (वाइस चांसलर) नियुक्त किया गया। बीएस घमन के इस्तीफा देने के बाद छह माह से कुलपति का पद रिक्त था। इसके बाद राज्य सरकार ने वरिष्ठ नौकरशाह रवनीत कौर को स्थानापन्न कुलपति नियुक्त किया था।

अरविंद विज्ञान शिक्षा, विज्ञान संचार और पंजाबी में विज्ञान शिक्षाशास्त्र के विकास में गहरी रुचि के साथ एक प्रसिद्ध सैद्धांतिक क्वांटम भौतिक विज्ञानी हैं।

मुख्यमंत्री कार्यालय के प्रवक्ता के अनुसार, इस पद के लिए 64 आवेदन प्राप्त हुए थे, जिनमें से यूजीसी की गाइडलाइन के मुताबिक 10 अपात्र पाए गए।

–आईएएनएस

SHARE
Previous articleBreaking, PBKS vs SRH: पंजाब किंग्स ने सनराइजर्स हैदराबाद को जीत के लिए दिया 121 रनों का लक्ष्य
Next articleHaryana के स्कूलों में गर्मी की छुट्टीयां घोषित
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here