New Zealand के विकेटकीपर वाटलिंग दूसरे टेस्ट से बाहर

0

न्यूजीलैंड के विकेटकीपर बल्लेबाज बीजे वाटलिंग पीठ की चोट से उबरने में असफल रहने के बाद गुरुवार से यानि के अब से कुछ देर बाद ही मेजबान इंग्लैंड के खिलाफ होने वाले दूसरे और अंतिम टेस्ट मैच से बाहर हो गए हैं। किकबज की रिपोर्ट के अनुसार, वाटलिंग पीठ में दर्द से पूरी तरह से नहीं उबर पाए और उन्हें दूसरे टेस्ट से बाहर होने के लिए मजबूर होना पड़ा। इस चोट ने वाटलिंग को पहले भी परेशान किया है। हालांकि पिछले 24 घंटों में इसमें सुधार हुआ था, लेकिन इसमें इतना सुधार नहीं हुआ है कि वह दूसरे टेस्ट में विकेट के पीछ की जिम्मेदारी निभा सके।

वाटलिंग की जगह अब वेलिंगटन फायरबर्डस के विकेटकीपर बल्लेबाज टॉम ब्लंडेल अपने 11वें टेस्ट में छठी बार विकेटकीपर की भूमिका निभाएंगे।

इंग्लैंड और न्यूजीलैंड के बीच दूसरा टेस्ट 18000 दर्शकों की मौजूदगी में खेला जाएगा।

वाटलिंग 18 जून से भारत के खिलाफ होने वाली विश्व टेस्ट चैंपियनशिप (डब्ल्यूटीसी) फाइनल के बाद क्रिकेट को अलविदा कह देंगे। 35 साल के वाटलिंग ने न्यूजीलैंड के लिए अब तक 74 टेस्ट और 28 वनडे मैच खेले हैं।

वाटलिंग टेस्ट क्रिकेट में दोहरा शतक लगाने वाले मात्र नौवें विकेटकीपर बल्लेबाज है। उन्होंने पहला दोहरा शतक इंग्लैंड के खिलाफ लगाया था।

–आईएएनएस

SHARE
Previous articleभारतीय बाज़ार में टाटा मोटर्स ने बंद किए नैक्सॉन SUV के चुनिंदा डीज़ल जाने ऐसा क्यों
Next articleWTC Final : भारतीय टीम ने साउथम्पटन में शुरू की ग्रुप ट्रेनिंग
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here