Covid की तीसरी लहर में बच्चों पर असर संभव, BMC ने शुरू की तैयारियां

0
आशंका जताई जा रही है कि कोविड की तीसरी लहर में बच्चे भी कोरोना की बुरी तरह से चपेट में आ सकते हैं। इसे देखते हुए बृहन्मुंबई नगर निगम (बीएमसी) और महाराष्ट्र सरकार मिलकर शहर में बाल चिकित्सा कोविड देखभाल वार्ड स्थापित कर रही है। कोविड की तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने पिछले हफ्ते राज्य के सभी जिला कलेक्टरों और नगरपालिका आयुक्तों को कोविद तीसरे हमले के लिए तैयार रहने का निर्देश दिया है।
महाराष्ट्र के पर्यटन मंत्री आदित्य ठाकरे जो मुंबई उपनगरीय जिले के संरक्षक मंत्री हैं, उन्होंने इस संबंध में बीएमसी मेयर किशोरी पेडनेकर, अतिरिक्त नगर आयुक्त संजीव जायसवाल और अन्य शीर्ष अधिकारियों के साथ चर्चा की है। उन्होंने बीएमसी को अगली लहर की आशंका वाले अलग-अलग पीडियाट्रिक कोविद केयर वार्ड बनाने का सुझाव दिया है।
आदित्य ठाकरे ने कहा, पिछले साल से, हमारे जंबो कोविद देखभाल केंद्रों में कोविद डायलिसिस और मातृ देखभाल की इकाइयां भी हैं। जैसा कि वायरस अलग-अलग आयु समूहों को प्रभावित करता है, हमारी प्रतिक्रिया भी सक्रिय रूप से बदलनी चाहिए।
सार्वजनिक स्वास्थ्य विभाग के नवीनतम स्वास्थ्य आंकड़ों के अनुसार, राज्य के लगभग दो-तिहाई संक्रमणों की रिपोर्ट अब 50 से कम आयु वर्ग में है। 31 से 40 साल के मामले 22.09 प्रतिशत , 41 से 50 साल वालों में 18.15 प्रतिशत और 21-30 वर्ष के लोगों में 17.51 प्रतिशत रोगी शामिल हैं।
मुंबई के पूर्वी उपनगर गोरेगांव में ठएरउड जंबो कोविड केयर सेंटर में बाल चिकित्सा कोविद केयर वार्ड आने के लिए स्लेट किया गया है और इसमें 700 बेड जोड़े जाने की उम्मीद है।
इसमें नवजात शिशु गहन चिकित्सा इकाई (एनआईसीयू) और बाल चिकित्सा गहन चिकित्सा इकाई (पीआईसीयू) शामिल है, जिसमें समर्पित बच्चों को पूरा करने के लिए 25 बिस्तरों की क्षमता के साथ 300 एक समर्पित बाल चिकित्सा कोविद देखभाल वार्ड शामिल होगा।
इसके अलावा, बीएमसी चार ऑक्सीजन प्लांट बनाने और रेमेडीसविर और टोसीलिजुमाब इंजेक्शन, मास्क, पीपीई किट, आदि जैसी दवाओं के पर्याप्त स्टॉक को बनाए रखने की योजना बना रही है।
न्यूज स्त्रोत आईएएनएस
SHARE
Previous articleबंगाल में हुई हिंसा पर PM Modi ने राज्यपाल धनखड़ से की बात
Next articleCorona के खिलाफ लड़ाई में भारत की मदद के लिए 37 करोड़ रुपये दान देगी Samsung
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here