China के हुआंगवान गांव में है दर्शनीय स्थल, ग्रामीण उत्थान को मिला बढ़ावा

0

इन फोटो को देखकर क्या आपको विश्वास हो रहा है कि यह चीन में एक गांव का दृश्य है? गांव में साफ-सुथरी पक्की सड़कें, बड़ी-बड़ी इमारतें मौजूद हैं, अवकाश के समय गांववासी आसपास के ग्रामीण पार्क में सुंदर दृश्यों का मजा लेते हुए आराम करते हैं। यहां हपेई प्रांत के श्योंगआन नवक्षेत्र का एक साधारण गांव है, जिसका नाम है हुआंगवान गांव। इधर के सालों में चीन में सुंदर नए गांवों का निर्माण किया जा रहा है, परिणामस्वरूप ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों के रहने के माहौल में दिन-ब-दिन सुधार हुआ है। श्योंगआन नवक्षेत्र की स्थापना साल 2017 में हुई, जो राष्ट्रपति शी चिनफिंग से केंद्रित चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की केंद्रीय समिति द्वारा किया गया एक महत्वपूर्ण ऐतिहासिक रणनीतिक विकल्प है। अपनी स्थापना से लेकर अब तक चार सालों में श्योंगआन नवक्षेत्र में तीन गुनी रात चौगुनी का परिवर्तन आ रहा है, खासकर पारिस्थितिक पर्यावरण के निर्माण क्षेत्र में। गांववासियों के रहने की स्थिति में सुधार लाने के लिए गांव-गांव में पार्कों और दर्शनीय स्थलों के निर्माण को प्रधानता दी जा रही है।

पिछली शताब्दी के 90 के दशक में, हुआंगवान गांव में एक सामूहिक पूंजी वाले प्लास्टिक का कारखाना स्थापित किया गया। गांववासी प्लास्टिक पैकेजिंग उद्योग के विकास से समृद्धि के रास्ते पर आगे बढ़े। वैभव के समय गांव में 83 प्लास्टिक पैकेजिंग उद्योग मौजूद थे। श्योंगआन नव क्षेत्र की स्थापना किए जाने के बाद, पर्यावरण संरक्षण की वजह से प्लास्टिक उत्पादन से संबंधित कई उद्योगों को बंद किया गया।

स्थानीय मिंगछ्वान हॉटल के मेनेजर ल्यू वेईक्वांग ने कहा, “हुआंगवान गांव के लोग नए विचारों का विकास करते हुए ‘सफेद’ को छोड़कर और ‘हरे रंग’ की तलाश करने लगे। उन्होंने गांव के आसपास चार पार्कों का निर्माण किया, जिनमें 5.3 लाख वर्ग मीटर वाला श्योंगशान पार्क सबसे उल्लेखनीय है। कृत्रिम झील और पर्वत, पुल और झरना, वृक्ष और फूल, सुंदर ²श्य कई पर्यटकों को आकर्षित करते हैं। दृश्य सुंदर है और पर्यावरण अच्छा है, जिससे हुआंगवान पर्यटन उद्योग के विकास को बढ़ावा मिला है।”

उन्होंने कहा कि हर सप्ताहांत और छुट्टियों व त्योहारों के दिनों में होटल भरा होता है। आसपास की काउंटियों के पर्यटकों के अलावा, पेइचिंग और थ्येनचिन जैसे शहरों के यात्री भी आते हैं।

हुआनवांग गांव की तरह श्योंगआन नव क्षेत्र में कई गांव मौजूद हैं, जहां के दृश्य इतने सुंदर हैं कि आसपास के पर्यटकों को आकर्षित करते हैं।

श्योंगआन नव क्षेत्र श्योंगश्येन, आनशिंग और रोंगछंग तीनों काउंटियों और आसपास की जगहों से गठित है। श्योंगश्येन कांउटी के माओचो कस्बे में तूच्यायिंग गांव में सड़क बहुत साफ है, गांव की मुख्य सड़क पर लगे पेड़ ताजे हरे रंग के होते हैं। बूढ़े लोग पार्क में टहलते हैं, जबकि युवा लोग ‘नेट सेलिब्रिटी’ मार्ग पर दौड़ते हैं और व्यायाम करते हैं। गांव के पूर्व में 1.3 लाख वर्ग मीटर क्षेत्रफल वाले योउछाई फूल का मैदान है। हर साल फूल खिलने के मौसम में आसपास के छांगचो, रनछ्यु आदि स्थलों से कई लोग खासकर इसे देखने आते हैं।

वहीं, श्योंगश्येन काउंटी के त्सानकांग कस्बे की सरकार ने एक पुराने ईंट कारखाने के स्थल पर एक सुंदर पार्क के रूप में बदल दिया, जिसका नाम है यिंगशीहू पार्क। स्थानीय नागरिक अक्सर यहां व्यायाम करने, खेलकूद करने, घूमने आते हैं। कुछ लोग सैक्सोफोन बजाते हैं, कुछ ड्रैगन नृत्य करते हैं, कुछ डायबोलो खेलते हैं और कुछ चौकोर नृत्य करते हैं।

सैक्सोफोन बजाने वाले नागरिक ने कहा कि वह अपने टीम के साथ रोज अभ्यास करने पार्क में आता है। वजह है कि पार्क विशाल है, दृश्य सुंदर है, वातावरण अच्छा है, और नागरिकों के निवास स्थल से थोड़ा दूर है, इस तरह वे खूब अभ्यास कर सकते हैं, लोगों को संगीत की ऊंची आवाज से होने वाली परेशानी की कोई चिंता भी नहीं है।

एक गांव में एक दर्शनीय स्थल होना, एक कस्बे में एक बड़ा पार्क होना श्योंगआन नव क्षेत्र के विकास की योजना है। वर्तमान में नवक्षेत्र में वनरोपण जोरों पर है। इधर-उधर पेड़ों के पौधे देखे जा सकते हैं, विश्वास है कि थोड़े कुछ सालों के बाद हरे रंग से भरा यह क्षेत्र और सुंदर हो जाएगा।

न्यूज स़त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleबोलेरो की टक्कर से दो घायल
Next articleवर्ल्ड नम्बर-13 Monfils पिंडली की चोट के कारण मोंटे कार्लो मास्टर्स से हटे
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here