Harsh Vardhan ने तेलंगाना का ऑक्सीजन, टीकों का कोटा बढ़ाने का भरोसा दिया

0

केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री हर्षवर्धन ने बुधवार को तेलंगाना को आश्वासन दिया कि केंद्र ऑक्सीजन, दवाओं और टीकों का कोटा बढ़ाएगा। उन्होंने राज्य सरकार के साथ आयोजित एक वीडियो सम्मेलन के दौरान यह आश्वासन दिया।

मुख्यमंत्री के.चंद्रशेखर राव के निर्देश पर वित्तमंत्री हरीश राव ने वीडियो कांफ्रेंस में भाग लिया।

मुख्यमंत्री कार्यालय के अनुसार, हर्षवर्धन ने तेलंगाना में कोविड की तीव्रता में कमी आने पर पर संतोष व्यक्त किया, और आश्वासन दिया कि ऑक्सीजन, दवाओं और इंजेक्शन की आपूर्ति जैसे रेमडेसिविर, वैक्सीन, परीक्षण किट, वेंटिलेटर और अन्य कोरोना से संबंधित दवाओं और आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति तुरंत की जाएगी और इस संबंध में राज्य का कोटा भी बढ़ाया जाएगा।

इससे पहले, हरीश राव ने राज्य सरकार द्वारा उठाए गए सुधारों के बारे में बताया और केंद्रीय मंत्री से कोटा बढ़ाने का आग्रह किया।

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने दूसरी लहर आने तक बुनियादी ढांचे में काफी वृद्धि की है। पहली लहर के दौरान केवल 18,232 बिस्तर थे, जो दूसरी लहर के दौरान बढ़कर 53,775 हो गए। ऑक्सीजन बेड 9,213 से बढ़ाकर 20,738 और आईसीयू बेड 3,264 से बढ़ाकर 11,274 किया गया।

उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य विभाग डोर-टू-डोर बुखार सर्वेक्षण कर रहा है, जिसमें 27,039 टीमें शामिल हैं। इनमें शामिल आशा कार्यकर्ता, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और एएनएम स्टाफ शामिल हैं, जो प्रत्येक घर में जाकर प्रत्येक परिवार का परीक्षण करती हैं।

हरीश राव ने केंद्रीय मंत्री को यह भी बताया कि कोविड के इलाज के लिए आवश्यक दवाओं से युक्त स्वास्थ्य किट संदिग्ध रोगियों को दी जाती है। यह सर्वेक्षण कार्यक्रम प्रसार को रोकने में मदद कर रहा है और वायरस के कारण होने वाली मौतों को भी रोक रहा है।

हरीश राव ने यह भी मांग की कि राज्य के लिए तय 450 टन ऑक्सीजन प्रतिदिन को 600 टन तक बढ़ाया जाना चाहिए। वह चाहते हैं कि आंध्र प्रदेश और महाराष्ट्र जैसे पड़ोसी राज्यों से ऑक्सीजन टैंकर राज्य में लाए जाएं, न कि ओडिशा जैसे दूर के राज्यों से। उन्होंने कहा कि रेमडेसिविर की आपूर्ति प्रतिदिन 20,000 शीशियों तक बढ़ाई जानी चाहिए।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleActor Harshvardhan Rane ने साइबराबाद पुलिस को दान किया ऑक्सीजन कंस्ट्रेटर
Next articleसोशल मीडिया पर भिड़ें Kangana Ranaut और Irfan Pathan, जानिए क्या है पूरा मामला
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here