केरल में हार के बाद Congress में कलह शुरू

0

केरल में कांग्रेस के नेतृत्व वाली यूडीएफ को इस विधानसभा चुनाव में सबसे खराब हार का सामना करना पड़ा है। पांच साल पहले 2016 में हुए चुनावों में उसे 47 सीटें मिली थीं जो साल 2021 में घटकर 41 हो गई। इसके साथ ही पार्टी में कलह शुरू हो गई है। 2016 के विधानसभा चुनावों में सिर्फ कांग्रेस के पास 22 सीटें थीं, लेकिन रविवार को जो नतीजे सामने आए, उसमें इसकी संख्या 21 हो गई जिससे पार्टी की परेशानियां बढ़ गई हैं।

कांग्रेसियों को सबसे ज्यादा जो चोट लगी है, वो ये है कि उन सभी को उम्मीद थी कि इससे पहले कभी भी सत्ता में बैठी सरकार ने वापसी नहीं की है। इसलिए, यह स्वाभाविक होगा कि यूूडीएफ की वापसी होगी लेकिन ऐसा नहीं हुआ।

इसलिए दो दिनों की चुप्पी के बाद, अनुभवी नेताओं के बीच विभिन्न नेताओं और संगठनों के साथ कलह शुरू हो गई है।

चॉपिंग ब्लॉक पर राज्य पार्टी के अध्यक्ष मुल्लापल्ली रामचंद्रन हैं। उनके बारे में कयास लगाया जा रहा था कि वो इस करारी हार के बाद इस्तीफा दे देंगे लेकिन सूत्रों के मुताबिक, उन्होंने पार्टी हाईकमान के पास फैसला छोड़ दिया।

एनार्कुलम के युवा कांग्रेस सांसद हिबी एडेन ने अपने फेसबुक में लिखा, हमें अभी भी लगातार सोते रहने वाले हाईकमान की आवश्यकता क्यों है?

कोट्टायम जिले के कांजीरापल्ली में हारने वाले उम्मीदवार जोसेफ वाजखान, पार्टी के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने भी कहा कि समय की आवश्यकता एक बहुत मजबूत नेतृत्व है।

वाझाकन ने कहा, पार्टी के पास एक कैडर संरचना है। अगर कोई पीछे देखता है, तो विपक्ष के नेता रमेश चेन्निथला बहुत सक्रिय थे और बहुत सारे मुद्दों को उठाते थे, लेकिन वह पार्टी से कोई समर्थन प्राप्त करने में विफल रहे ।

केरल में कांग्रेस पार्टी हमेशा से दो गुटों में बंटी रही है। इनमें से एक गुट के करुणाकरण का है जबकि दूसरा गुट ए.के. एंटनी का है। साल 2000 के बाद, करुणाकरण गुट का नेतृत्व चेन्निथला ने किया और एंटनी गुट का नेतृत्व दो बार पूर्व मुख्यमंत्री ओमन चांडी ने किया। ये गुटबंदी आज भी जारी है।

हालाँकि पिछले दो वर्षों में के.सी. के रूप में एक नया शक्ति केंद्र सामने आया। अब राजस्थान से राज्यसभा सांसद वेणुगोपाल को राहुल गांधी का पूरा आशीर्वाद है।

वेणुगोपाल का नाम लेते हुए, उनका नाम लिए बगैर, वाजखान ने कहा कि हर चीज के लिए दिल्ली जाने की प्रथा को बंद करना होगा। प्राधिकरण का प्रतिनिधिमंडल होना है।

संयोग से, कांग्रेस के नेतृत्व की घोषणा की गई उम्मीदवारों की सूची में बैंकिंग थी, जब उसने देखा कि कई नियमित रूप से छोड़ दिया जा रहा था और पार्टी ने जिन 91 सीटों पर चुनाव लड़ा था, उनमें से आधे से अधिक में नए चेहरे दिखाई दिए।

एक मीडिया समीक्षक ने कहा, नेतृत्व द्वारा अपनाई गई कोई भी सामान्य रणनीति जब उलट नहीं पड़ती है तो एक समिति की नियुक्ति और एक रिपोर्ट प्राप्त करने और फिर उसे कालीन के नीचे रखकर काम करेगी। यह केरल में भव्य पुरानी पार्टी को नहीं बचाएगा।

पुराने या नए चेहरों से इसका कोई लेना-देना नहीं है। अगर ऐसा है, तो लगभग 50 फीसदी नए चेहरे मैदान में हैं, ऐसा कुछ नहीं हुआ। जरा सोचिए, अगर नेतृत्व ने वही पुराने नाम रखे और हार गए, तो बड़ा खतरा होगा। समय की जरूरत है कि पार्टी को पार्टी के पदों पर इस नामांकन व्यवसाय को रोकना है और उन्हें सभी स्तरों पर सभी पदों पर सदस्यों का चयन करना चाहिए, जितनी जल्दी यह बेहतर होगा उतना अच्छा होगा। यदि नहीं, तो यह पार्टी गायब हो जाएगी।

कन्नूर लोकसभा सदस्य के सुधाकरन को नए अध्यक्ष के रूप में नियुक्त करने के लिए युवा कांग्रेस के एक वर्ग के साथ कॉल शुरू हो गए हैं।

एआईसीसी ने महासचिव तारिक अनवर से कहा है कि वे अपनी रिपोर्ट को पराजित करने के लिए तैयार करें और सभी की निगाहें पार्टी हाईकमान से आने वाली हैं।

इस बीच, शुक्रवार को पार्टी का शीर्ष नेतृत्व तमाम मुद्दों पर चर्चा करने के लिए बैठने वाला है। यह निश्चित है कि आतिशबाजी जारी रहेगी और इसके तेज होने की उम्मीद है।

न्यूज सत्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleसीवान:सुबह सात बजे से 11 तक ही खुलेगी दुकानें
Next articleजीएमसी अनंतनाग एमएस परीक्षण सकारात्मक; प्रभारी जूनियर अस्थायी संकाय सदस्य को सौंप दिया गया, वरिष्ठों ने नजरअंदाज कर दिया
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here