डोकलाम विवाद के बाद सुधरा चीन, भारत में रह रहे अपने नागरिकों को दिए ये सुझाव

0

नई दिल्ली। डोकलाम विवाद के बाद वैश्विक स्तर पर आलोचनाओं का शिकार हो चुके चीन ने अब अपने नागरिकों को भारत में पर्यटन के लिए जाने को लेकर कुछ दिशा निर्देश जारी किए हैं। चीन ने भारत में रह रहे अपने नागरिकों को सुझाव देते हुए भारत स्थित चीनी दूतावास की वेबसाइट पर यह परामर्श सूची जारी की है। चीन की ओर से कहा गया है कि उनके नागरिक पर्यटन के लिए अंडमान निकोबार द्वीपसमूह पर चले गए थे। लेकिन वहां भारत सरकार की परमिशन के बिना विदेशी नागरिक नहीं जा सकते। वेबसाइट पर जारी की गई पोस्ट के मुताबिक वहां कुछ चीनी नागरिकों को हिरासत में लेकर पूछताछ की गई व उनको लौट जाने को कहा गया। चीन ने कहा कि इस तरह के प्रतिबंधित क्षेत्र में बिना सरकार की अमुमति के चीनी नागरिकों नहीं जाना चाहिए।

इसके अलावा सुझाव सूची में यह भी कहा गया है कि भारतीय सीमा और सेना से संबंधित वाहनों व ठिकानों की फोटो उनको नहीं खिंचनी चाहिए। इसके अलावा चीन ने कहा कि हमारे नागरिकों को नेपाल यात्रा के समय बॉर्डर पर स्थित बाजारों में जाने से बचना चाहिए वहीं गलती से भी किसी अन्य देश की सीमा में नहीं घुसना चाहिए। वेबसाइट में कहा गया है कि प्रतिवर्ष भारत में आने वाले विदेशी पर्यटकों में तीन प्रतिशत चीनी पर्यटक होते हैं।

बता दें कि डोकलाम विवाद के बाद पहले तो दोनों देशों ने अपनी-अपनी सेनाएं विवादित क्षेत्र से हटा ली थी लेकिन हाल ही में खबरें आई थी कि ठीक उसी जगह चीन ने एक बार फिर बड़ी संख्या में सैनिकों की तैनाती कर दी है। रक्षा सूत्रोें के अनुसार डोकलाम में चीन अपने सैनिकों की संख्या धीरे-धीरे बढ़ाता ही जा रहा है। ऐसे में हालत बिगड़ने का डर है। इस बात को लेकर भारत इस समय चिंतित है। गुरूवार को एयर चीफ मार्शल बीएस धनोवा ने चीनी सेना की हरकतों की ओर संकेत दिया था।

धनोआ ने कहा कि था डोकलाम के चुंबी घाटी में जिस तरह से चीनी सैनिक तैनात है, उसे देखते हुए ये उम्मीद है कि उनका अभ्यास पूरा हो गया होगा और वो अब ठंड पड़ते ही वापस लौट जाएंगे। दरअसल डोकलाम सेक्टर पूरी तरह से भूटान का है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here