Review: बाप-बेटे के रिश्ते को मजबूत बनाती सैफ अली खान की ‘शेफ’

0

कलाकार: सैफ अली खान, पद्मप्रिया जानकिरमन, स्वर कांबले, चंदन रॉय सान्याल, शोभिता धुलिपाला।
निर्देशक: राजा कृष्णा मेनन
अवधि: 2 घंटा 13 मिनट
रेटिंग: 3 स्टार

बॉलीवुड अभिनेता सैफ अली खान की फिल्म शेफ आज सिनेमाघरों में रिलीज हो चुकी है। फिल्म 2014 में इसी नाम से आई हॉलीवुड निर्देशक जॉन फैवरो की अफीशियल रीमेक है। जिसका निर्देशन बॉलीवुड के निर्देशक राजा कृष्णा मेनन ने किया है। फिल्म एक मॉर्डन फैमिली ड्रामा जिसकी बेहद प्यारी सी कहानी है। सैफ की शेफ में एम्बीशन, फैमिली और फूड का ट्रिपल कॉम्बीनेशन है। इसकी सबसे खास बात यह कि इसमें एक ट्रिप भी है, जो कहानी को खूबसूरत मोड़ देता है।

कहानी
फिल्म की कहानी शुरू होती हैं एक थ्री स्टार मश्लिन शेफ रोशन कालरा (सैफ) से। जिसे एक रेस्टोरेंट से इसलिए बाहर निकाल दिया जाता है क्योंकि उसने एक कस्टमर को पंच मारा था। जिस दौरान उसे जबरदस्ती ब्रेक लेने के लिए कहा जाता है। रोशन कालरा अपने ​अरमान (स्वर) और अपनी अलग हुई पत्नी राधा मेनन (पद्म प्रिया) के साथ एक ट्रिप के लिए कोच्ची जाते हैं।
यह ट्रिप तीनों की जिंदगी का सबसे हसीन लम्हा बना जाता है और रोशन की फैमिली के लिए फायदेमंद होता है क्योंकि इस दौरान उनका बिखरी हुआ परिवार साथ आ जाता है, इस दौरान राधा मेनन एक नई शुरूआत करने की सलाह देती है। इस दौरान वह फूड ट्रक शुरू करने की सलाह देती है। सब यही नहीं मिलेगा बॉस आगे की कहानी जानने के लिए आपको सिनेमाघरों का रूख करना होगा।

क्यों देखें फिल्म
सैफ की शेफ एक खूबसूरत सिंपल फैमिली ड्रामा है। फिल्म काफी रिफ्रेशिंग लगती है। लंबे समय बाद इस तरह की कहानी को परदे पर लाया गया हैै। अगर आप कुछ इसी तरह की कहानी देखने की इच्छुक थें तो फिल्म जरूर देखें। ​फिल्म में कुछ कुछ पल ऐसे हैं जो अपकी चेहरे पर मुस्कान ला देती हैं। वहीं ​गाने की वजह से थोड़ी खिचीं हुई लगती है। लेकिन अंत में यह फिल्म चेहरे पर एक मुस्कुराहट छोड़ जाती है। इस फिल्म की सबसे खास बात यह है कि ये आपको इमोशनल जर्नी पर ले जाती है, जो बाप और बेटे के रिश्ते को मजबूत बनाती है। जिनकी विचारधारा तो नहीं मिलती लेकिन उनकी बॉन्डिंग ऐसी कि कोई उसे तोड़ नहीं सकता। जो आज के समय के लिए बहुत ज्यादा जरूरी है।

अभिनय
अगर हम सैफ अली खान के अभिनय की बात करें तो लंबे समय बाद हमें उनका ऐसा किरदार देखने को मिला है। उन्होंने एक एम्बीशियस शेफ और एक पिता की भूमिका को परदे पर ​बेेहतरीन अंदाज में पेश किया, वाकई काबिले तारीफ है। सैफ के किरदार में बनावटीपन बिल्कुल नजर नहीं आया। मलयालम फिल्मों की अभिनेत्री पद्मप्रिया जानकीरमन ने सिंगल मदर रोल को बखूबी परदे पर पेश किया है। उन्हें देखकर लगता ही नहीं कि वो अभिनय कर रही हो। वहीं फिल्म के अदर किरदारों शोभित धूलिपाला, चंदन रॉय सान्याल मिलिंद सोमन ने अपने अभिनय को बहुत ही खूबसूरती के साथ पेश किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here