क्या इंसानों को जानवरों से COVID-19 हो सकता है, जानिए ?

0

चेन्नई के एक चिड़ियाघर में कोविड -19 के सकारात्मक परीक्षण के बाद एक नौ वर्षीय शेरनी की मौत हो गई है, जिसे माना जाता है कि कोरोनवायरस के कारण देश में किसी जानवर की पहली मौत हुई थी उसके बाद अधिकारियों ने हाथियों के एक समूह का परीक्षण किया है इस बात का पता लगाने के लिए कि क्या उनमें से किसी को कोविड हैं या नहीं । बताया जा रहा है कि, SARS-CoV-2, वायरस जो COVID-19 का कारण बनता है, पहली बार दिसंबर 2019 में मनुष्यों में पहचाना गया था । जिसके बाद 9 जून तक यह वायरस दुनिया भर में करीब 175 मिलियन से अधिक लोगों को अपना शिकार बना चुका है। हालाँकि, यह माना जाता है कि यह वायरस चमगादड़ के पूर्वज से जुड़ा हुआ है, मगर वायरस की उत्पत्ति और SARS-CoV-2 के बीच अभी तक पहचान नहीं हो पाई है ।

अध्ययनों से पता चलता है कि, वायरस मुख्य रूप से श्वसन बूंदों और निकट संपर्क respiratory droplets and close contact के माध्यम से लोगों के बीच फैलता है, मगर मनुष्यों और जानवरों के बीच इसके कई उदाहरण भी मौजूद हैं कई जानवर जो संक्रमित मनुष्यों के संपर्क में रहे हैं, जैसे कि मिंक, कुत्ते, घरेलू बिल्लियाँ, शेर और बाघ, आदि पर इसका परीक्षण किया तो वो पॉजिटिव रहा । जबकि, चमगादड़ से मनुष्यों में कोरोनावायरस के ट्रांसमिशन के सिद्धांतों पर शोध अभी तक जारी है। इसके बारे में सीडीसी का कहना है कि, “इस समय, इस बात का कोई सबूत नहीं है कि जानवर लोगों को Sars-CoV-2 फैलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं या नहीं ।

हाल ही में, नीदरलैंड, डेनमार्क और पोलैंड में मिंक और ओटर्स से मनुष्यों में कोविड -19 के फैलने का मामला सामने आया है । अमेरिका में भी मामले दर्ज किए गए थे, लेकिन सीडीसी का कहना है कि “संक्रमित श्रमिकों ने संभवतः सरस-सीओवी -2 को खेतों में मिंक करने के लिए पेश किया, और फिर वायरस मिंक के बीच फैलने लगा”। सीडीसी के अनुसार, साथी जानवर जैसे बिल्लियाँ और कुत्ते, चिड़ियाघरों या अभयारण्यों में बड़ी बिल्लियाँ, गोरिल्ला, खेतों में मिंक और कुछ अन्य स्तनधारी ​जीव सार्स-सीओवी -2 से संक्रमित हो सकते हैं । दुनियाभर में जानवरों के इस वायरस से संक्रमित होने की खबरें आई हैं । यदि आपके पास पालतू जानवर हैं तो क्या करें । तो उनके साथ वैसा ही व्यवहार करें जैसा आप मानव परिवार के अन्य सदस्यों के साथ करते हैं ताकि उन्हें संभावित COVID-19 संक्रमण से बचाया जा सके । जब भी संभव हो बिल्लियों को घर के अंदर रखें और उन्हें खुले में घूमने न दें । कुत्तों को घर से बाहर के लोगों के साथ बचाने के लिए उन्हें दूसरों से कम से कम 6 फीट की दूरी पर ले जाएं । इसके अलावा पालतू जानवरों पर मास्क न लगाएं क्योंकि मास्क आपके पालतू जानवर को नुकसान पहुंचा सकता है ।

फिलहाल, इस बात का कोई सबूत नहीं है कि वायरस त्वचा, फर या पालतू जानवरों के बालों से लोगों में फैल सकता है । अपने पालतू जानवरों को रासायनिक कीटाणुनाशक, अल्कोहल, हाइड्रोजन पेरोक्साइड, या अन्य उत्पादों, जैसे कि हैंड सैनिटाइज़र, काउंटर-क्लीनिंग वाइप्स, या अन्य औद्योगिक या सतह क्लीनर से न पोंछें या न नहलाएँ । इसके बारे में आपको अपने पशु चिकित्सक से सलाह लेनी चाहिए ।

 

SHARE
Previous articleरेवाड़ी:सीजन में दूसरी बार 44 डिग्री पहुंचा अधिकतम तापमान
Next articleरेवाड़ी:18+ को आज पहली बार 25 केंद्रों पर लगेंगे टीके, 45 प्लस वालों को बिना रजिस्ट्रेशन वैक्सीन लगेगी
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here