Black fungus इंजेक्शन की बाजार में किल्लत, कैट ने डॉ. हर्षवर्धन को भेजा पत्र

0

कॉन्फेडरेशन ऑफ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने आज केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन को एक पत्र भेज मांग की है कि ब्लैक फंगस के उपचार में आने वाले सभी इंजेक्शन की दवा निमार्ताओं द्वारा की जा रही आपूर्ति को केंद्र सरकार तुरंत अपने नियंत्रण में ले। कैट की अपील है कि राज्य सरकारों के माध्यम से इन इंजेक्शनों की आपूर्ति सीधे अस्पतालों में की जाए जिससे जरूरतमंद मरीजों को यह इंजेक्शन आसानी से मिल जाए। कैट के अनुसार, म्यूकोर्मिकोसिस (ब्लैक फंगस ) के उपचार के लिए आवश्यक लिपोसोमल साल्ट के इंजेक्शन की बाजार में किल्लत हो गई है और इसकी कालाबाजारी और अनैतिक बिक्री की आशंका है।

कैट के राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने डॉ. हर्षवर्धन को भेजे पत्र में कहा कि, इन इंजेक्शनों की कमी का मामला हाल ही में तब सामने आया जब दिल्ली के भागीरथ प्लेस में स्थित दवा बाजार में थोक व्यापारियों के पास दिल्ली एवं दिल्ली के बाहर के राज्यों से पिछले 4-5 दिनों से लिपोसोमल साल्ट के इंजेक्शन की मांग के लिए प्रतिदिन सैकड़ों फोन आये । वर्तमान में डॉक्टरों द्वारा ब्लैक फंगस के इलाज के लिए इन इंजेक्शनों को लिखा जा रहा है।

भागीरथ प्लेस एशिया का सबसे बड़ा दवा बाजार है जो पूरे देश में दवाओं की आपूर्ति करता है। दिल्ली ड्रग ट्रेडर्स एसोसिएशन (डीडीटीए) के महासचिव आशीष ग्रोवर ने बताया कि, भारत में कुछ फार्मा कंपनियों द्वारा निर्मित लिपोसोमल साल्ट के इंजेक्शन की भारी कमी है। इसमें सिप्ला द्वारा बनाया जाने वाला फोसमे 50 , भारत सीरम द्वारा एम्फोनेक्स, सेलोन लैब्स द्वारा एमफाइट , भारत सीरम द्वारा एम्फोलिप और कुछ अन्य कंपनियों जैसे माइलान लैबोरेटरीज और एबॉट लेबोरेटरीज आदि द्वारा निर्मित इसी साल्ट की दवाएं हैं।

ये इंजेक्शन वर्तमान में बाजार में उपलब्ध नहीं हैं और इनकी कालाबाजारी की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता है अथवा इन इंजेक्शनों को अधिक कीमत पर भी बेचा जा सकता है।

कैट ने डॉ. हर्षवर्धन को सुझाव दिया कि, इन महत्वपूर्ण इंजेक्शनों की किसी भी प्रकार की कालाबाजारी को रोकने और मरीजों के सम्बन्धियों को दर -दर की ठोकरे खाने से बचाने के लिए सरकार को इन इंजेक्शनों की निमार्ताओं द्वारा आपूर्ति को तुरंत अपने नियंत्रण में लेना चाहिए।

न्रूूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleArif Zakaria : डिजिटल प्रारूप की शूटिंग फिल्म निर्माताओं के लिए ज्यादा सहज
Next articleकोरोना के हालात पर अखलेश यादव ने साधा योगी पर निशाना
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here