कोरोना संकट से निपटने के लिए अमेरिका भारत के लिए बहुत कुछ कर रहा है : Biden

0

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने कहा है कि अमेरिका भारत के लिए बहुत कुछ कर रहा है, साथ ही कोविड 19 वैक्सीन बनाने के लिए सामग्री और ऑक्सीजन भी भेज रहा है। उन्होंने मंगलवार को कहा कि उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बात की है और “उन्हें सबसे ज्यादा चीज की जरूरत है वह सामग्री और मशीनों के उन हिस्सों की जो वैक्सीन बनाने में सक्षम हों, हम उन्हें भारत भेज रहे हैं।”

टीके बनाने के लिए आवश्यक सामग्री का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा, “हम उन्हें बहुत सारे प्रिकसर्स (शगुन) भेज रहे हैं।”

उन्होंने कहा कि अमेरिका ऑक्सीजन भी भेज रहा है, जिसकी कोविड 19 के पुनरुत्थान के कारण देश में कमी हो गई है।

उन्होंने कहा, “हम भारत की काफी मदद कर रहे हैं।”

विदेश मंत्री एंथनी ब्लिंकन ने पिछले साल जब अमेरिका गहरे संकट का सामना कर रहा था, तब भारत से सहायता की बात स्वीकार करते हुए कहा कि अब अमेरिका भारत को सहायता भेज रहा है।

उन्होंने स्टेट डिपार्टमेंट द्वारा प्रदान किए गए साक्षात्कार प्रतिलेख के अनुसार फाइनेंशियल एक्सप्रेस को बताया कि भारत हमारी जरूरत की घड़ी में हमारी सहायता के लिए जल्दी आया था, जब हम कोविड19 के साथ वास्तविक संघर्ष कर रहे थे, उदाहरण के लिए लाखों और लाखों, सुरक्षात्मक मास्क प्रदान करना। हमें सब याद है, और अब मदद करने के लिए हम वह सब कुछ करने के लिए ²ढ़ हैं जो हम कर सकते हैं।

उन्होंने कहा, “मैंने वास्तव में जो देखा है वह न केवल संयुक्त राज्य अमेरिका की सरकार का, बल्कि हमारे निजी क्षेत्र और भारतीय अमेरिकियों का भी एक अद्भुत जुटान है। मैं लगभग एक सप्ताह पहले लगभग हर अग्रणी सीईओ के साथ एक कॉल पर था। सभी मदद करना चाहते हैं और हमारी सरकार, उन प्रयासों का समन्वय कर रही है। इसलिए हम वह सब कुछ कर रहे हैं जो हम कर सकते हैं।”

बाइडन के प्रवक्ता जेन साकी, जिन्होंने भारत को सहायता के लिए असिस्ट किया गया है, ने कहा कि अमेरिकी सरकार एस्ट्राजेनेका (कोविशिल्ड) वैक्सीन को 20 मिलियन बनाने के लिए सामग्री भेज रही है, जिसका ऑर्डर दिया गया है।

इन सामग्रियों का प्राथमिकता के आधार पर आदेश दिया गया है कि वे इसके लिए टीके बनाने के लिए अनुबंध के तहत कंपनियों को आपूर्ति करने के लिए रक्षा उत्पादन अधिनियम को लागू करें।

अमेरिका को एस्ट्राजेनेका वैक्सीन की 300 मिलियन खुराक की जरूरत नहीं है, जिसे उसने अनुबंधित किया था क्योंकि मॉडर्न, फाइजर और जॉनसन एंड जॉनसन के टीकों की पर्याप्त आपूर्ति है।

उन्होंने कहा कि कोविड 19 एडेड का कुल मूल्य 100 मिलियन डॉलर से अधिक होगा।

पसाकी ने कहा कि अमेरिकी एजेंसी फॉर इंटरनेशनल डेवलपमेंट द्वारा ऑक्सीजन और ऑक्सीजन की आपूर्ति, एन 95 मास्क, रैपिड डायग्नोस्टिक टेस्ट, दवाओं और भारत सरकार द्वारा अनुरोधित घटकों के साथ वित्त पोषित छह हवाई जहाज पहले ही भेजे जा चुके हैं।

उन्होंने कहा कि भारत सरकार के अनुरोध पर, यूएसएड ने भारतीय रेड क्रॉस को तत्काल जरूरत की आपूर्ति प्रदान की ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि वे जितनी जल्दी हो सके उन तक पहुंच सकें।

उन्होंने कहा कि 2.5 मिलियन एन 95 मास्क भेजे गए हैं और अगर भारत सरकार ने उनके लिए कहती है तो अतिरिक्त 12.5 मिलियन उपलब्ध हैं।

उन्होंने कहा कि एक लाख रैपिड डायग्नोस्टिक टेस्ट और एंटी वायरल डग रेमेडिसविर के 20,000 ट्रीटमेंट कोर्स भी भेजे गए हैं।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleमधुबनी : लॉकडाउन की घोषणा होते ही बाजार में खरीदारी को उमड़ी लोगों की भीड़
Next articleमधुबनी : मधवापुर में मिले 13 नए कोरोना मरीज, संक्रमितों की संख्या हुई 199
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here