कल है अक्षय तृतीया, जानिए पूजन विधि, मुहूर्त और मंत्र

0

हिंदू धर्म पंचांग के मुताबिक अक्षय तृतीया को एक अबूझ मुहूर्त और बहुत ही महत्वपूर्ण तिथि माना गया हैं इस पर्व को आखा तीज के नाम से भी जानते हैं हर साल यह पर्व वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि पर मनाया जाता है इस तिथि पर सभी तरह के मांगलिक कार्य और शुभ काम बिना पंचांग देखे किये जा सकते हैं अक्षय तृतीया को अबूझ मुहूर्त भी माना जाता हैं इस दिन खरीदारी को बहुत ही शुभ माना जाता है इस बार यह पर्व 14 मई दिन शुक्रवार को पड़ रहा हैं तो आज हम आपको अक्षय तृतीया का शुभ मुहूर्त, पूजन विधि और मंत्र बताने जा रहे हैं तो आइए जानते हैं।

आपको बता दें कि सूर्य इस दिन मेष राशि से वृष राशि में प्रवेश करेंगे। सूर्य के राशि परिवर्तन से इस दिन वृष राशि में सूर्य बुध के संयोग से बुधादित्य योग बन रहा हैं इस दिन शुक्र स्वराशि वृष में रहेंगे। इस पर शुभ संयोग यह भी बना है इस दिन चंद्रमा उच्च राशि में होंगे। अक्षय तृतीया पर चंद्रमा का शुक्र के साथ शुक्रवार को वृष राशि में गोचर करना, धन, समृद्धि और निवेश के लिए बहुत ही फलदायी रहेगा। इस दिन दान और पूजा करने से इसका फल कई गुना होने के साथ अक्षय भी रहता हैं अक्षय तृतीया पर सोने और चांदी से बने हुए आभूषण की खरीदारी को शुभ माना गया हैं इस दिन श्री विष्णु संग देवी मां लक्ष्मी की विशेष रूप से पूजा की जाती हैं इस दिन 14 तरह के दान करने से सभी तरह के सुख और संपन्नता की प्राप्ति होती हैं।

अक्षय तृतीया का मुहूर्त कब से कब तक—
तृतीया तिथि का आरंभ— 14 मई 2021 को प्रात: 05 बजकर 38 मिनट से
​तृतीया तिथि का समापन— 15 मई 2021 को प्रात: 07 बजकर 59 मिनट तक
अक्षय तृतीया पूजा मुहूर्त— प्रात: 05 बजकर 38 मिनट से दोपहर 12 बजकर 18 मिनट तक
अवधि— 06 घंटा 40 मिनट

मंत्र जाप—
‘ॐ नमो भाग्य लक्ष्म्यै च विद्महे अष्ट लक्ष्म्यै च धीमहि तन्नौ लक्ष्मी प्रचोदयात्।।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here