2 घंटे में ही 6.71 लाख रुपए कम हुई एक यूनिट की कीमत, एलन मस्क के एक ट्विट से 17% टूटा बिटकॉइन

0

इलेक्ट्रिक कार निर्माता कंपनी टेस्ला के सीईओ एलन मस्क ने क्रिप्टोकरेंसी बिटकॉइन को बड़ा झटका दिया है। मस्क ने एक सोशल मीडिया पोस्ट में कहा है कि पर्यावरण चिंताओं को देखते हुए टेस्ला बिटकॉइन में भुगतान स्वीकार नहीं करेगी। यह मार्च के बाद बिटकॉइन का सबसे निचला स्तर है। भारतीय रुपयों में बिटकॉइन की कीमतों में दो घंटे में 6.71 लाख रुपए प्रति यूनिट की कमी दर्ज की गई है। हालांकि, बाद में इसकी कीमतों में तेजी देखी गई। खबर लिखे जाते समय बिटकॉइन 50,955 डॉलर प्रति यूनिट पर कारोबार कर ही थी।

खासतौर पर कोयले के इस्तेमाल को लेकर, जो किसी भी फ्यूल के मुकाबले सबसे ज्यादा प्रदूषण फैलाता है।” मस्क का कहना है कि क्रिप्टोकरेंसी कई स्तर पर एक अच्छा आइडिया है। हम भरोसा है कि यह भविष्य का वादा करता है लेकिन यह पर्यावरण की बड़ी कीमत पर नहीं आ सकता है। टेस्ला की इस घोषणा के बाद बिटकॉइन की कीमतों में तेज उछाल दर्ज किया था। अब मस्क ने कहा है कि टेस्ला किसी भी बिटकॉइन की बिक्री नहीं करेगी।

 उन्होंने कहा था कि फिएट करेंसी (रुपया, डॉलर आदि) में जब नेगेटिव रियल इंटरेस्ट है तो कोई मू्र्ख ही दूसरे विकल्प की तलाश नहीं करेगा। मस्क ने कहा था कि फिएट करेंसी की तरह बिटकॉइन की भी अपनी कमियां हैं।बिटकॉइन एक क्रिप्टोकरेंसी है। दुनिया में इस वक्त 4 हजार से ज्यादा क्रिप्टोकरेंसी चलन में हैं। बिटकॉइन इनमें सबसे पॉपुलर क्रिप्टोकरेंसी है। हर बिटकॉइन ट्रांजेक्शन ब्लॉकचेन के जरिए पब्लिक लिस्ट में रिकॉर्ड होता है। जो डिसेंट्रलाइज तरीके से अलग-अलग यूजर्स द्वारा किया जाने वाला रिकॉर्ड मेंटेनेंस सिस्टम है। क्रिप्टोकरेंसी एक प्रकार की वर्चुअल करेंसी होती है। डॉलर या रुपए जैसी करेंसी की तरह क्रिप्टोकरेंसी से भी लेन-देन किया जा सकता है। भारत में इसका इस्तेमाल तेजी से बढ़ रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here