संदिग्ध परिस्थितियों में चार लोगों की मौत, जांच में 13 मिले संक्रमित

0

इनायतनगर थाना क्षेत्र में चार लोगों की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। घटना भाऊपुर सिधौरा गांव की है। गले में खराश व सांस लेने की शिकायत के बाद एक-एक करके ग्रामीणों की मौत हुई। ग्रामीणों की मौत कोरोना से होने की आशंका व्यक्त की गई है। ये सभी लोग गांव में आयोजित एक भागवत कथा में शामिल हुए थे। प्रकरण सामने आने के बाद भाऊपुर गांव को सील कर दिया गया है। उपजिलाधिकारी मिल्कीपुर से हुई शिकायत के बाद चिकित्सकों की टीम ने पहुंचकर छानबीन की। रविवार शाम तक गांव के 100 लोगों की कोरोना जांच हुई है, जिसमें 13 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इसके बाद गांव में हड़कंप मच गया है।

भाऊपुर गांव में 16 मार्च से 26 मार्च तक महेश तिवारी के घर भागवत कथा का आयोजन हुआ था। गत 27 मार्च को भंडारे का कार्यक्रम था, जिसमें लखनऊ से महेश की बहन नीलम आई थीं। आयोजन निपटने के बाद महेश की मां कलावती, बहन, नीलम, बुआ विद्यावती सहित एक अन्य महिला कलावती, पवन तिवारी, मंडावी सहित गांव के कई लोगों को गले में खराश और बुखार की शिकायत हो गई। इसके बाद दस अप्रैल को पवन और कलावती की मौत हो गई। इससे पूर्व सात अप्रैल को पुतरादेवी व आठ अप्रैल को महेश की मां कलावती की मौत हो चुकी थी। नीलम को लखनऊ में भर्ती कराया गया है। हालांकि, प्रभारी चिकित्सा अधिकारी डॉ. डीएन द्विवेदी ने बताया कि ने महेश की मां कलावती, पवन कुमार व एक अन्य महिला कलावती की मृत्यु होने की पुष्टि की है। इस प्रकरण में गांव की निगरानी समिति के सदस्यों की लापरवाही भी सामने आई है। लेखपाल अरुण कुमार का कहना है कि ग्रामीणों ने पहले लक्षण छुपाए। इसके बाद लोगों की मौत शुरू हुई तो प्रकरण सामने आया। संक्रमण के स्त्रोत का भी पता लगाया जा रहा है।
भाऊपुर सिधौरा में लोगों की जांच का सिलसिला सोमवार को भी जारी रहेगी। करीब 150 लोगों की पहचान की गई है, जो भागवत कथा व भंडारे में शामिल हुए थे। प्रभारी चिकित्सा अधिकारी डॉ. डीएन द्विवेदी ने बताया कि सोमवार को जांच के लिए दो कैंप लगाए जाएंगे। एंटीजेन के साथ ही आरटीपीसीआर टेस्ट भी किया जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here