ये ऑटो कंपनी, बच्चे की पढ़ाई का भी उठाएगी खर्च कोरोना से मरने वाले कर्मचारियों के परिवार को 2 साल तक सैलरी देगी

0

कोरोना की दूसरी लहर देश में भयंकर तबाही मचा रही है. शहर हो या गांव, कोई भी कोरोना के कहर से नहीं बचा है.  इसी कड़ी में देश की टू-व्हीलर और थ्री-व्हीलर बनाने वाली ऑटो कंपनी बजाज ऑटो (Bajaj Auto) ने कहा कि अगर उसके किसी कर्मचारी की कोरोना से मौत होती है तो कंपनी अगले दो सालों तक उसके परिवार को सैलरी देती रहेगी.

पुणे स्थित ऑटो कंपनी ने एक बयान में कहा कि कंपनी की तरफ से दिया गया मेडिकल इंश्योरेंस भी आश्रितों के लिए 5 साल तक बढ़ाया जाएगा. ये बेनिफिट्स Bajaj Auto द्वारा पेश किए गए अन्य लाइफ इंश्योरेंस फायदे से ज्यादा हैं.बजाज ऑटो ने कहा, एसिस्टेंस पॉलिसी के तहत मृतक कर्मचारी के परिवार को 24 महीने के लिए प्रति माह 2 लाख रुपए तक के मासिक वेतन का भुगतान, 12वीं कक्षा तक प्रति वर्ष प्रति बच्चे 1 लाख रुपए के अधिकतम दो बच्चों के लिए शिक्षा सहायता और ग्रैजुएशन के लिए प्रति बच्चे प्रति वर्ष 5 लाख रुपए की पेशकश की जाएगी. बजाज ऑटो ने बताया कि यह मदद 1 अप्रैल, 2020 से सभी स्थायी कर्मचारियों के लिए लागू है.

बजाज ऑटो ने एक बयान में कहा, एक कर्मचारी-केंद्रित संगठन के रूप में हम अपने सभी कर्मचारियों को विभिन्न उपायों और पहलुओं के माध्यम से निरंतर सहायता प्रदान करना जारी रखेंगे, जो केवल वैक्सीनेशन सेंटर्स तक सीमित नहीं है, बल्कि कोविड केयर सर्विस, प्रोएक्टिव टेस्टिंग, हॉस्पिटेलाइजेशन असिस्टेंस दी जाती है. मुंबई स्थित ग्लासवेयर कंपनी ने कहा था कि कोविड-19 के कारण जान गंवाने वाले उसके कर्मचारी के परिवार को अगले दो साल तक सैलरी मिलती रहेगी.परिवार के गार्जियन की मौत से बच्चों की पढ़ाई पर बुरा असर नहीं हो इसके लिए कंपनी ने कहा कि वह बच्चों की ग्रैजुएशन तक की पढ़ाई भी पूरी करवाएगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here