अफगानिस्तान की ‘भ्रष्ट’ संसद में सुधार को तैयार युवा नेता

0
116

अफगानिस्तान में शुक्रवार को बहुप्रतीक्षित आम चुनाव के लिए तैयारियां पूरे जोरों पर हैं। इस चुनाव के लिए जारी उम्मीदवारों की सूची में अधिक शिक्षित युवा शामिल हैं, जो भ्रष्ट संसद में सुधार के लिए तैयार हैं।

संसद के निचले सदन में 249 सीटों के लिए प्रतिस्पर्धा करने वाले 2,500 से अधिक उम्मीदवार युवा पेशेवर हैं, जिनकी उम्र 20 से 30 के बीच में है। इसमें पत्रकार, खिलाड़ी, व्यापारी, शिक्षक और सरकारी कर्मचारी शामिल हैं।

समाचार एजेंसी एफे को दिए बयान में एक युवा उम्मीदवार सलेहा सोआदत ने कहा, “एक संसदीय संवाददाता के रूप में मैंने उन सांसदों को देखा है, जो प्रशासन से अनजान हैं और अशिक्षित हैं। उनमें से कुछ तो माफिया समूह के भी सदस्य हैं। वे संसद में धन के घोटाले के लिए आए हैं और अन्य अपने व्यापार को बढ़ाने।”

29 वर्षीया सालेहा ने कहा कि उन्होंने अपराधियों, माफिया, नशीली दवाओं के तस्कर और भूमि हथियाने वाले लोगों के समूह को चुनौती देने के लिए इस चुनाव में उतरने का फैसला किया।

ये युवा भले ही अफगानिस्तान की सरकार में भ्रष्टाचार को खत्म करने निकले हों, लेकिन इनके पास पैसे की ताकत नहीं है और इसीलिए ये गली-मोहल्लों में घर-घर जाकर लोगों से समर्थन की मांग कर रहे हैं।

सालेहा ने कहा, “मेरे अभियान में मैंने काबुल के कई गांवों का दौरा किया है। ये वो गांव हैं, जहां अपनी जीवन की चिंता करने वाले धनवान, हत्यारे और अपराधी नहीं जा सकते। मैंने देखा है कि हमारे लोग ऐसे भ्रष्ट राजनेताओं से परेशान हो चुके हैं। मैं आश्वस्त हूं कि लोग ईमानदारी और सच्चाई के लिए वोट करेंगे।”

‘वर्ल्ड जस्टिस प्रोजेक्ट’ की ओर से 2016 में किए गए सर्वेक्षण से यह पता चला कि अफगानिस्तान के लोगों ने अपनी विधायिका को अपनी न्यायपालिका के बाद दूसरी सबसे भ्रष्ट संस्था के रूप में पहचाना है।

एक अन्य 34 वर्षीय उम्मीदवार सामी मेहदी ने समाचार एजेंसी एफे को दिए बयान में कहा, “कई सांसद ऐसे हैं, जिन्होंने काबुल में बड़े अपराध किए हैं जैसे हत्या, भूमि हथियाना और अवैध खनन। लेकिन संसदीय प्रतिरक्षा के कारण उनका नाम कभी सामने नहीं आया।”

कई दशकों तक एक पत्रकार के रूप में काम करने वाले काबुल विश्वविद्यालय में लेक्चरर मेहदी ने कहा कि संसद में भ्रष्टाचार को खत्म करने के अलावा उनके अभियान का लक्ष्य महिला अधिकार और आंतरिक सुरक्षा भी है।

इस साल 20 अक्टूबर को 3.4 करोड़ अफगानिस्तान निवासियों में से 90 लाख निवासी आम चुनाव में मतदान करेंगे।

उल्लेखनीय है कि तालिबान ने इस आम चुनाव को अमेरिकी प्रक्रिया करार देते हुए कहा था कि वे इसका विरोध करेंगे।

स्वतंत्र चुनाव आयोग (आईईसी) के प्रवक्ता अब्दुल अजीज इब्राहिमी ने समाचार एजेंसी एफे को दिए बयान में कहा कि आम चुनाव में मतदान के दिन 7,384 मतदान केंद्रों में से 2,384 केंद्र निष्क्रिय रहेंगे, क्योंकि ये केंद्र तालिबान के नियंत्रण वाले जिलों में हैं।

अफगानिस्तान के हेलमंद प्रांत में गुरुवार को हुए आत्मघाती हमले में आम चुनाव के एक उम्मीदवार सालेह मोहम्मद अचाकजाई सहित उनके सात समर्थक मारे गए और 11 अन्य लोग घायल हुए।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleस्वच्छ वायु कार्यक्रम लागू हो : ग्रीनपीस इंडिया
Next articleराहुल गांधी दो दिवसीय दौरे पर मध्य प्रदेश आएंगे
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here