प्रेग्नेंसी के दौरान आपका डिप्रेशन हो सकता है बच्चे के लिए खतरनाक

0

जयपुर हेल्थ। जब भी कोई महिला प्रेग्नेंट होती है तो उसमें कई तरह के शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक बदलाव होते है। इस दौरान हार्मोन में बदलाव के कारण तनाव महसूस करना सामान्य है लेकिन अगर कोई महिला प्रेग्नेंसी के दौरान डिप्रेशन की शिकार हो जाती है तो इसका सीधा असर बच्चे पर पड़ता है।

एक शोध के अनुसार मां के मानसिक स्वास्थ्य का सीधा संबंध बच्चे की रोग प्रतिरोधक क्षमता से होता है। प्रेग्नेंसी के दौरान एक महिला का मानसिक स्वास्थ्य बच्चे के इम्युनिटी सिस्टम के विकास को सीधा प्रभावित करता है। अल्बर्टा यूनिवर्सिटी में बाल रोग विशेषज्ञों के द्वारा किये शोध में शोधकर्ताओं ने 1,043 मां और शिशु के हेल्थ रिकॉर्ड की जांच की।

शोधकर्ताओं ने शोध में पाया की जिन महिलाओं ने प्रेग्नेंसी की पहले तीन महीनों में या बच्चे के जन्म के पहले या बाद में डिप्रेशन का मामला पाया गया था, उनके बच्चों की रोग प्रतिरोधक क्षमता उन बच्चों की तुलना में आधी थी, जिनकी मां की मानसिक स्थिति प्रेग्नेंसी के दौरान सामान्य थी।

शोध से यह साबित होता है कि सामान्य तनाव, डिप्रेशन या चिंता का प्रभाव शिशु पर पङता है। शोधकर्ताओं ने कहा कि बीमारियों से लड़ने की ताकत कम होने से शिशुओं को सांस संबंधी या गैस्ट्रोइंटेस्टिनल इंफेक्शन के साथ-साथ अस्थमा और एलर्जी का खतरा होता है

और इससे अवसाद, मोटापा व मधुमेह जैसे ऑटोइम्यून रोगों का खतरा बढ़ सकता है। प्रेग्नेंसी के दौरान महिलओं को ज्यादा से ज्यादा खुश रहना चाहिए। इससे बच्चे के सेहत पर अच्छा असर होता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here