आपका भी बढ़ रहा है तेज़ी से वजन तो कैसे करें वजन बढ्ने वाले हार्मोन को नियंत्रित जानिए

वजन बढ्ने ,ई परेशानी कई लोगों को होती हैं । कुछ लोग ऐसे भी हैं जिनको खान पान की परेशानी के चलते वजन बढ्ने की परेशानी हो जाती हैं

0
34

जयपुर । वजन बढ्ने ,ई परेशानी कई लोगों को होती हैं । कुछ लोग ऐसे भी हैं जिनको खान पान की परेशानी के चलते वजन बढ्ने की परेशानी हो जाती हैं । कुछ ऐसे भी लोग हैं जो की आलस के चलते अपने वजन को बढ्ने देते हैं । पर इन सभी के साथ ही एक और परेशानी है जिसके कारण वजन बढ्ने की परेशानी होती है वह है हार्मोनल प्रोब्लंस ।

कई लोगों को हार्मोन्स की परेशानी होने की वजह से भी वजन बढ्ने की परेशानी हो जाती है । आज के समय में वां का बढ्न मतलब कई सारी बीमारियों से घिर जाना । आज हमापको इसी परेशानी से निजात पाने के बारे में बताने जा रहे हैं । आइये जानते हैं क्या किया जाये वजन बढ़ाने वाले हार्मोन्स को नियंत्रण करने के लिए ।

कॉर्टिसोल हार्मोन को नियंत्रित करना महत्वपूर्ण होता है। जब कॉर्टिसोल हार्मोन उच्च हो जाता है, तो शरीर रक्त शर्करा को वसा में परिवर्तित करता है और लंबे समय तक शरीर में संग्रहीत करते हैं। कॉर्टिसोल के स्तर को कम करने से फैट को कम करने में मदद मिलती है।

घ्रेलिन एक और हार्मोन है, जो वजन बढ़ाने का भी कारण बनता है। यह हार्मोन भूख से जुड़ा हुआ होता है। घ्रेलिन को रोकने का सबसे अच्छा तरीका प्रोटीन की पर्याप्त मात्रा का उपभोग करना होता है। प्रोटीन भूख हार्मोन को नियंत्रित करने में मदद करता है

लेप्टिन उपयोगी हार्मोन होता है जो ओवरइटिंग को रोकता है। यह हार्मोन वसा कोशिका द्वारा जारी किया जाता है, जो मस्तिष्क को संकेत देता है कि आप पूर्ण हैं। दुर्भाग्य से, जब आप उच्च मात्रा में फ्रुक्टोज का उपभोग करते हैं तो लेप्टिन का उत्पादन बढ़ जाता है। इस स्थिति में, हार्मोन मस्तिष्क को सटीक संकेत नहीं भेजता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here