विश्व महासागर दिवस 2018: आखिर क्यों इतना रहस्यमयी है अटलांटिक महासागर का ‘बरमुडा ट्राएंगल’?

0

जयपुर। उत्तरी अटलांटिक महासागर का स्थित बरमुडा ट्राएंगल ना जाने कितनी सदियों से एक अनसुलझा रहस्य बना हुआ है। रहस्य सिर्फ इस इलाके का ही नहीं बल्कि इस इलाके में होने वाली घटनाओं से भी संबंधित है क्योंकि अभी तक ना जाने कितने ही समुद्री जहाज और हवाई जहाज इस इलाके से गायब हो चुके हैं। और पीछे रह गया सिर्फ एक अनसुलझा रहस्य कि अचानक ये सबी गए तो गए कहां।

हालांकि इस रहस्य को लेकर कई वैज्ञानिक अलग-अलग प्रकार का दावा कर चुके हैं लेकिन अभी तक किसी के पास इस मामले में कोई भी प्रत्यक्ष सबूत नहीं है। लेकिन कुछ वैज्ञनिकों के कुछ नए ही तर्क सुझाए हैं जिन्हें जानकर आप हैरान रह जाएगे-

एक रिसर्च  में सामने आया है कि बरमुडा ट्राएंगल के ऊपर कई घातक हवाओं का पहर है जिनकी गति लगभग 170 मील प्रति घंटा है। ये हवाएं बादलों के सथ चलती हैं। शायद यही कारण है कि जो कोई इन हवाओं के संपर्क में आता है वह कहां गायब हो जाता है किसी को पता नहीं चल पाता।

यह हवाओं वाले तूफानी बादल इतने घने हाते हैं जो हवाई जहाज इनके संपर्क में आता है वह अपनी नियंत्रण खो बैठता है और अचानक हवाई जहाज में विस्फोट हो जाता है। इस बादलों का दायरा 20 से 55 मील तक फैला होता है जिनसे गुजरना खतरों से खाली नहीं है।

इतना ही नहीं, वैज्ञानिकों का दावा है कि बरमुडा आईलैंड और संमुद्री इलाके में कई एयर बम हैं, जिनके कारण ही हवाओं की गति काफी तेज हो जाति है। शायद सयही कारण है कि इनकी चपेट में जो भी आता वह सीधा विस्फोट का शिकार हो जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here