क्या Toyota अब भारत में अधिक विस्तार को नहीं देगा प्राथमिकता ?

0

हाल के समय में टोयोटा मोटर कॉर्प देश में चल रही उच्च कर व्यवस्था के कारण भारत में और अधिक विस्तार नहीं करने पर विचार कर रही है।  सरकार ने कारों और मोटरबाइकों पर करों को इतना अधिक रख दिया है कि कंपनियों को इसका निर्माण करने में अब और पहले से कहीं अधिक मुसीबतों को सामना करना पड़ रहा है ।

Toyota Halts India Expansion, Blaming 'We Don't Want You' Taxesइसके अन्तर्गरत टोयोटा की स्थानीय इकाई, टोयोटा किर्लोस्कर मोटर के उपाध्यक्ष शेकर विश्वनाथन ने अपने बयान में यह कहा की उच्च कर की वसूली ने कार और उसके निर्माण में लग रही लागत से उपभोक्ताओं की पहुंच से बाहर कर दिया है , जिसके कारण से कारखाने अभी भी बेकार पड़े हुए हैं और साथ ही नौकरियां भी नहीं मिल रही हैं।

Toyota halts India expansion, blaming 'we don't want you' taxesटोयोटा, दुनिया की सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनियों में से एक मानी जाती है, जिसने 1997 में भारत में अपना परिचालन शुरू  कर दिया था। इसकी स्थानीय इकाई के स्वामित्व की बात करें तो जापानी कंपनी के पास 89% की हिस्सेदारी है।भारत में मोटर वाहन जिनमें कार, दोपहिया और स्पोर्ट्स यूटिलिटी वाहन शामिल हैं, इन सभी के करों को 28% तक बढ़ा दिया गया हैं।

Toyota halts India expansion, blames 'we don't want you' taxesभारत मैन्युफैक्चरिंग की स्थापना और  फर्मों को आकर्षित करने के लिए 23 बिलियन डॉलर के प्रोत्साहन को पेश करने की योजना को बनाया है। आपकों बतादें की जनरल मोटर्स कंपनी ने भी 2017 में देश छोड़ दिया जबकि फोर्ड मोटर कंपनी पिछले साल खरीदारों के लिए दो दशकों से अधिक समय तक संघर्ष करने के बाद महिंद्रा एंड महिंद्रा लिमिटेड के साथ मिलकर भारत में व्यापर में  सहमत हुई।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here