क्या पूर्ण बहुमत की सरकार पास कराएगी महिला आरक्षण विधेयक?

0
59

देश में नई सरकार के गठन के बाद संसद का पहला सत्र, जो बजट सत्र भी है, सोमवार से शुरू होने जा रहा है। एक सवाल फिर फिजा में तैरेगा कि इस बार देश की तकरीबन आधी आबादी को उसका हक दिलाने के प्रति मौजूदा सरकार कितनी गंभीर है? सवाल उठना लाजिमी भी है, क्योंकि इस बार आधी आबादी की नुमाइंदगी लोकसभा में बढ़कर 14 फीसदी हो गई है और मांग 33 फीसदी की है।

यहां हम बात महिला आरक्षण विधेयक की कर रहे हैं, जिसे राज्यसभा ने 2010 में ही मंजूरी दे दी थी, लेकिन लोकसभा इस पर लगातार नौ साल मौन रही है।

महिलाओं के मुद्दे को लेकर मुखर रहने वाली सामाजिक कार्यकर्ता और सेंटर फॉर सोशल रिसर्च की डायरेक्टर डॉ. रंजना कुमारी कहती हैं कि इस आरक्षण की मांग नहीं है, बल्कि महिलाओं के अधिकार का सवाल है। उन्होंने कहा कि महिलाओं को संविधान से बराबरी का दर्जा प्राप्त है, लेकिन वे लोकसभा और विधानसभाओं में महज 33 फीसदी प्रतिनिधित्व की मांग कर रही हैं।

हालांकि मौजूदा सरकार द्वारा इसे पास करवाने के मसले पर पूछे जाने पर वह कहती हैं कि अगर महिलाओं को उनको हक दिलाने की सरकार की मंशा होती तो इस विधेयक को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की अगुवाई वाली राजग की पूर्व सरकार में ही लोकसभा में विधेयक पास करवाने की कोशिश की जाती।

डॉ. रंजना ने इस मसले पर आईएएनएस से बातचीत के दौरान कहा, “भाजपा ने 2014 के लोकसभा चुनाव में भी अपने चुनावी घोषणापत्र में इस विधेयक को शामिल किया था। हम पूरे पांच साल तक सरकार को याद दिलाते रहे, मगर सरकार लोकसभा में विधेयक नहीं लाई।”

उनसे जब पूछा गया कि इस बार फिर पूर्ण बहुमत की सरकार है तो क्या वह महिला आरक्षण विधेयक को संसद की मंजूरी मिलने की उम्मीद करती हैं, तो उन्होंने कहा कि भाजपा और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) की विचारधारा में महिलाएं सिर्फ मां, बहन और पत्नी हैं, जिनका काम परिवार की सुख-सुविधा का ध्यान रखना है। मगर व्यक्ति के तौर पर शायद उन्हें महिलाओं को बराबरी का दर्जा या हक देना शायद मंजूर नहीं है। यही कारण है कि भाजपा की पिछली सरकार ने महिला आरक्षण विधेयक पास करवाने में कभी दिलचस्पी नहीं ली।

डॉ. रंजना ने कहा, “मैं मानती हूं कि पिछली सरकार महिलाओं के लिए कई योजनाएं लाई, मगर महिला आरक्षण विधेयक पर विचार नहीं किया।”

उन्होंने हालांकि कहा कि महिला संगठनों की ओर से फिर सरकार पर दवाब बनाने की कोशिश जारी रहेगी।

हाल ही में ग्लोबल इंटरनेट मंच एपोलिटिकल द्वारा दुनिया की सबसे प्रभावकारी 100 महिलाओं की सूची में शामिल डॉ. कुमारी ने कहा, “हम फिर सरकार पर इस विधेयक को लोकसभा में पारित करवाने के लिए दबाव बनाएंगे। खासतौर से राज्य सरकारों की ओर से दबाव बनाने की कोशिश की जाएगी।”

गौरतलब है कि लोकसभा चुनाव 2019 में देशभर से 78 महिलाएं संसद पहुंची हैं, जिससे निचले सदन में उनका प्रतिनिधित्व 14 फीसदी हो गया है, जबकि ओडिशा से 21 में से सात महिला सांसद है जो लोकसभा में राज्य से 33 फीसदी प्रतिनिधित्व का दावा करती हैं।

डॉ. रंजना इसे सकारात्मक बदलाव का सूचक मानती हैं। उनका कहना है कि शिक्षा और रोजगार के प्रति महिलाओं के उन्मुख होने से समाज में निचले स्तर से बदलाव आ रहा है।

अधिकांश राज्यों में पंचायती राज निकायों में महलाओं को 50 फीसदी या उससे अधिक प्रतिनिधित्व दिया जा चुका है। मगर, लोकसभा और राज्यों की विधानसभाओं में उनकी 33 फीसदी आरक्षण की मांग अब तक पूरी नहीं हो पाई है, जबकि महिला आरक्षण विधेयक सबसे पहले1996 में संसद में पेश किया गया था। उस समय समाजवादी पार्टी और राष्ट्रीय जनता दल ने इस विधेयक का पुरजोर विरोध किया था।

विरोध के बाद विधेयक संयुक्त संसदीय समिति के पास भेज दिया गया था। इसके बाद फिर 1998 में तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजेपयी के कार्यकाल के दौरान विधेयक लोकसभा में पेश किया, लेकिन इस बार भी विधेयक पास नहीं हुआ। महिला आरक्षण विधेयक फिर 1999, 2002 और 2003 में फिर संसद में पेश किया गया, मगर इसे संसद की मंजूरी नहीं मिल पाई।

संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन सरकार के दौरान 2008 में मनमोहन सिंह सरकार ने विधेयक को राज्यसभा में पेश किया। इसके दो साल बाद 2010 में उच्च सदन ने इसे मंजूरी प्रदान की, लेकिन उसके बाद तकरीबन नौ साल बीत चुका है, लेकिन विधेयक को लोकसभा में पेश नहीं किया गया है।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articlebirthday special: 17 जून को जन्म लेने वाले व्यक्तियों के लिए कैसा रहेगा ये साल
Next articleफिलिस्तीन के खिलाफ युद्ध छेड़ रहा है अमेरिका
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here