क्या गैर भाजपा मुख्यमंत्री सीएए के राष्ट्रव्यापी अमल को रोकेंगे?

0

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शुक्रवार को नई दिल्ली में इंडियन वोमेन प्रेस कॉर्प्स में आरोप लगाया कि नव-संशोधित नागरिकता अधिनियम सत्तारूढ़ भाजपा द्वारा एक डिजाइन के तहत इतिहास को बदलने का प्रयास है। उन्होंने इसे एक ऐसी प्रक्रिया बताया ‘जो विभाजन का बीज बोती है।’

कमलनाथ उन गैर-भाजपा मुख्यमंत्रियों की एक लंबी सूची में शामिल हो गए, जिन्होंने नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) के खिलाफ अपनी आवाज उठाई है।

कमलनाथ हालांकि सीएए को लेकर अपने विरोध में पंजाब के समकक्ष अमरिंदर सिंह जितने सख्त नहीं दिखे, लेकिन उनके विरोध से साफ हुआ कि संशोधित अधिनियम का विरोध करने वाले मुख्यमंत्रियों की सूची लगातार बढ़ती जा रही है और इसके राष्ट्रव्यापी अमल पर सवालिया निशान लग गया है।

संशोधित विधेयक राष्ट्रपति की मंजूरी मिलने के बाद कानून बन चुका है। लेकिन, इस पर देशव्यापी स्तर पर सवाल उठाए जा रहे हैं। कई मुख्यमंत्रियों ने इसे असंवैधानिक बताया है।

पंजाब के मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता अमरिंदर सिंह इस संबंध में अपने रुख को स्पष्ट करने वाले पहले व्यक्तियों में से हैं। उन्होंने गुरुवार को कहा कि उनकी सरकार राज्य में कानून को लागू नहीं होने देगी।

अमरिंदर सिंह ने कहा कि राज्य विधानसभा में बहुमत वाली कांग्रेस इस ‘असंवैधानिक अधिनियम’ को रोक देगी।

माकपा नेता और केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने गुरुवार को कहा था कि वह राज्य में इस अधिनियम को लागू नहीं होने देंगे।

उन्होंने कहा था, “सीएबी बिल्कुल अलोकतांत्रिक है और संविधान के मूल सिद्धांतों के खिलाफ है। बाहरी दुनिया की नजरों में सीएबी भारत के लिए शर्म की बात है। देश को हिंदू राष्ट्र बनाने के लिए आरएसएस के एजेंडे के अलावा यह कुछ नहीं है।”

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सबसे मुखर आलोचकों में से एक पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री बनर्जी ने यह स्पष्ट किया है कि वह अधिनियम को अपने राज्य में लागू नहीं होने देंगी। उन्होंने इससे पहले कहा था कि एनआरसी को पश्चिम बंगाल में अनुमति नहीं दी जाएगी।

चुनावी रणनीतिकार व जद (यू) उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर ने शुक्रवार को लगातार तीसरे दिन ट्वीट कर नागरिकता संशोधन विधेयक को लेकर अपनी नाराजगी जाहिर की। उन्होंने अपनी पार्टी के रुख के खिलाफ जाते हुए ट्वीट किया, “बहुमत से संसद में नागरिकता संशोधन विधेयक पास हो गया। न्यायपालिका के अलावा अब 16 गैर भाजपा मुख्यमंत्रियों पर भारत की आत्मा को बचाने की जिम्मेदारी है, क्योंकि ये ऐसे राज्य हैं, जहां इसे लागू करना है।”

उन्होंने आगे लिखा, “तीन मुख्यमंत्रियों (पंजाब, केरल और पश्चिम बंगाल) ने सीएबी और एनआरसी को नकार दिया है और अब दूसरे राज्यों को अपना रुख स्पष्ट करने का समय आ गया है।”

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleसर्जिकल स्ट्राइक की इजाजत देने से पहले पर्रिकर ने कहीं थीं दो बातें : सतीश दुआ
Next articleसीएम योगी ने राम मंदिर के लिए हर परिवार से 11 रुपये, पत्थर मांगे
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here