क्या भाजपा एससी/एसटी एक्ट बवाल के बाद हुए नुकसान की भरपाई इस तरह से करेगी?

0
113

जयपुर। 2 अप्रैल को दलितों के द्वारा एसएसी एसटी एक्ट में सुप्रीम कोर्ट के फैसले और सरकार की बेरुखी के खिलाफ भारत बंद का आयोजन किया था। इस भारत बंद के दौरान देश भर में कई जगहों में हिंसा फैल गई थी। दलितों के मामले में भाजपा उत्तर-पूर्व राज्यों में चुनावों के बाद से ही फंसती हुई दिखाई दे रही है। इन चुनावों में भाजपा ने जीत हासिल की थी। लेकिन, भाजपा की जात के बाद देश भर में अंबेडकर की मूर्तियों के साथ छेड़छाड़ की खबरें आने लगी थीं। कई जगहों पर अंबेडकर की मूर्तियों को तोड़ भी दिया गया था।

भाजपा को खुद को पता है कि दलितों के पास इन सारे मामलों के वजह से गलत संदेश जा रहा है। कुछ दिन पहले खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मूर्तियों के साथ छेड़छाड़ के मामले को गलत बताया था और फिर अभी हाल ही में अंबेडकर के मामले में खुद और खुद की पार्टी का बचाव किया था।

अब भाजपा अंबेडकर जयंति यानि 14 अप्रैल को देश भर में मनाने वाली है। इतना ही नहीं 14 अप्रैल से 5 मई तक भाजपा ग्राम स्वराज अभियान पूरे देश में चलाने वाली है। भाजपा अंबेडकर दिवस को राष्ट्रीय न्याय दिवस के रूप में मनाने वाली है। भाजपा ने अपने सारे सांसदों और विधायकों से इस दौरान अंबेडकर के बारे में लोगों को बताने को कहा है। भाजपा जनता को ये भरोसा दिलाने की कोशिश करेगी कि वो दलितों के साथ है।

इसके अलावा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 14 अप्रैल को छत्तीसगढ़ के बीजापुर जाने वाले हैं। बीजापुर देश के पिछड़े इलाकों में से एक है। मोदी सरकार ने देश भर में 114 जिलों की पहचान की है जो कि पिछड़े इलाकों में आते हैं। इन जिलों में सरकार विशेष तौर पर विकास के काम की शुरुआत करने वाली है। इन सारे निर्णयों के साथ ही भाजपा दलितों को कई सारे संदेश देने के लिए खुद को तैयार कर रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here