क्या हो पाएगा नगालैंड में विधानसभा चुनाव?

0
1984

इस साल 8 राज्यों में विधानसभा चुनाव होने हैं। जिसमें से तीन राज्यों नगालैंड, मेघालय और त्रिपुरा इसी फरवरी को विधानसभा चुनाव होने हैं। नगालैंड में 27 फरवरी को विधानसभा चुनाव होने हैं। अभी वहां पर भाजपा के साथ नगा पीपुल्स फ्रंट की सरकार है। नगालैंड में 60 विधानसभा सीटें हैं। टीआर जेलियांग नगालैंड के मुख्यमंत्री हैं।

सिर्फ 22 उम्मीदवारों ने ही किया नामांकन

आज नगालैंड में तीन बजे चुनावों के लिए नामांकन की प्रक्रिया खत्म हो गई। पर, अपने मांगों को पूरा ना होते देख और पार्टियों के चुनाव के बहिष्कार की वजह से 60 सीटों वाली विधानसभा सीटों पर मात्र 22 उम्मीदवारों ने ही नामांकन किया। नेशनल डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी के आठ, नगा पीपल्स फ्रंट के सात, 6 भाजपा और 1 जदयू के उम्मीदवारों ने आज अपना नामांकन दाखिल किया। गौर करने वाली बात है कि कुल जितने भी नामांकन हुए वो आखिरी दिन मतलब कि आज ही हुए। ये नामांकन भी मात्र 17 विधानसभा सीटों के लिए ही हो पाया। इसका मतलब अगर चुनाव भी होते हैं तो इन 17 सीटों पर ही मतदान हो पाएगा। सरकार बनाने के लिए 31 सीट की ज़रुरत पड़ेगी।

Nagaland Assembly

क्या है मांग?

नगा समुदाय का कहना है कि 2015 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और नगा नगारिक समूहों के बीच दिल्ली में शांति समझौता के लिए फ्रेमवर्क अग्रीमेंट हुआ था, लेकिन उस दिशा में अब तक कोई काम नहीं हुआ है। नगालैंड आदिवासी होहो और नागरिक संगठन की कोर कमेटी की 30 जनवरी को एक बैठक बुलाई गई थी। इस बैठक में नगालैंड के 11 राजनीतिक दलों के समूहों ने भी हिस्सा लिया था। इस बैठक में नगा समूदाय की मांगों को पूरा हो जाने तक विधानसभा चुनाव में हिस्सा ना लेने का फैसला लिया गया था। इस फैसले पर तमाम राजनीतिक दलों ने भी सहमति जता दी थी। 11 दलों के दस्तखत वाले संयुक्त घोषणापत्र में कहा गया कि वे 27 फरवरी को राज्य में होने वाले चुनाव में ना तो राजनीतिक दल और ना ही जनता भाग लेगी। इन दलों में नगा पीपल्स फ्रंट के अलावा कांग्रेस, बीजेपी की राज्य यूनिट, नैशनलिस्ट डेमोक्रेटिक पीपल्स पार्टी, नगालैंड कांग्रेस, यूनाइटेड नगालैंड डेमोक्रेटिक पार्टी, आम आदमी पार्टी, नैशनल कांग्रेस पार्टी, लोक जन पार्टी, जनता दल (यू) और नैशनल पीपल्स पार्टी शामिल हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here