अरुण जेटली के निधन के बाद मोदी क्यों नहीं आ पाए

0
49

जयपुर। जेटली ने अपनी सेहत को देखते हुए मोदी के दूसरे कार्यकाल में मंत्री बनने से इनकार कर दिया था और हालांकि चुनाव लड़ने से भी उन्होंने इंकार कर दिया था जेटली की हालत मोदी सरकार के पहले कार्यकाल से ही कुछ नाजुक चल रही थी और पिछले कुछ दिनों से उनकी हालत काफी खराब थी. जिसके चलते उन्हें दिल्ली के एम्स अस्पताल में भर्ती कराया गया था और उसके बाद शनिवार को 12:07 पर उनका दिल्ली के एम्स अस्पताल में निधन हो.

अरुण जेटली भारतीय जनता पार्टी के एक ऐसे नेता थे जिन्हें हमेशा से भारतीय जनता पार्टी में ईद ईद के रूप में देखा जाता था और वह कभी भी भारतीय जनता पार्टी के अंदरूनी नेता या आर एस एस के इंसाइडर नेता नहीं बन सके कई लोगों का कहना है कि यही कारण है कि वह कभी भी भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष नहीं बन सके बावजूद इसके कि वे इस पद के काबिल थे.

हालांकि अरुण जेटली हमेशा से उन नेताओं के करीब रहे जो भारतीय जनता पार्टी के शीर्ष नेताओं में से रहे चाहे वह अटल बिहारी वाजपेई का काल हो चाहे लालकृष्ण आडवाणी का या फिर 2014 के बाद आया नरेंद्र मोदी का समय हो.

अरुण जेटली एक बहुत ही प्रखर वक्ता इसके साथ-साथ अपनी वकालत के पेशे में भी एक बहुत बड़े वकील के रूप में जाने जाते रहे थे. 2002 में जब नरेंद्र मोदी गुजरात दंगों को लेकर कानूनी दाव पर चुने फंसे थे तब अरुण जेटली ही उन्हें उन सब से बाहर निकाल कर लाए थे इसके अलावा अरुण जेटली और ने लालकृष्ण आडवाणी और अटल बिहारी वाजपेई की भी कानूनी मदद करी है.

लेकिन जब लालकृष्ण आडवाणी का निधन हुआ तो यह सवाल सबके मन में है कि आखिर क्यों नरेंद्र मोदी उनके अंतिम संस्कार के लिए नहीं पहुंच सके तो आपको बता दें कि जब अरुण जेटली का निधन शनिवार को हुआ तो मीडिया में इस बात की खबर आएगी अरुण जेटली के परिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कॉल करा था और उनसे संवेदनाएं प्रकट करी थी जिसके बाद अरुण जेटली की पत्नी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अपना दौरा रद्द न करने की अपील करी थी.

आपको बता दें कि इस वक्त प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 3 देशों के दौरे पर हैं और इसी के चलते वह भारत नहीं आ सके लेकिन उन्होंने अपने एक संबोधन में अरुण जेटली को याद करते हुए अपनी श्रद्धांजलि दी है आपको बता दें कि अरुण जेटली उन मंत्रियों में से एक थे जो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के करीबी नेताओं में से माने जाते थे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here