क्या आपको पता है पुरूषों के लिंग में हड्डी क्यों नहीं होती है?

0

ऐसा क्या है जो चिंपांजियों के पास है, रेकॉन्स के पास है…लेकिन मानव के पास नहीं है! जी हम बात कर रहे हैं लिंग की..क्योंकि कुछ जानवरों के लिंग में हड्डी पाई जाती है लेकिन किसी भी मानव के लिंग में हड्डी नहीं पाई जाती है। ऐसा क्यों? चलिए आज हम आपको बताते हैं क्या है इसके पीछे की वजह।

ब्रिटिश शोधकर्ताओं एवं यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन के माटिल्ड ब्रैंडल ने कहा, मोनोगामी के लिंग को हड्डी से दूर किया हो सकता है। लिंग में पाई जाने वाली हड्डियां, ऐसे लगता है, जैसे पुरुषों को संभोग के दौरान कुछ सहायता करती है।  या फिर उनकी संतानें कैसी होगी ये बताती है। ऐसा बिल्कुल नहीं है।

वैज्ञानिकों ने यह पता लगाने की कोशिश की और यह जाना कि लिंग की हड्डी  जिसका वैज्ञानिक नाम बेकुलम है। उन्होनें पाया है कि यह पहली बार विकसित तब हुआ है जब लगभग 15 करोड़ साल नास और स्तनधारियों के विभाजन हुए थे। यह भी पढ़ें इस महिला के दिमाग से निकला जिंदा कोकरोच…देखकर डॉक्टर हुए हैरान

चिंपांजियों और बोनोबोस, जो कि मानवों के सबसे निकटतम पूर्वज में से है। इन सब के लिंग में बेकुलम है लेकिन मनुष्यों के पास नहीं है। बेकुलम पुरुष और जानवरों को यौन संबंध रखने के लिए आसानी पैदा करता है। बेकुलम पुरुष के लिंग को सुरक्षा प्रदान करने के साथ-साथ महिला के गर्भाशय में वीर्य को भेजने में मदद करता है।

यह भी पढ़ें वैज्ञानिकों ने खोजी एक ऐसी मछली जो पानी के अलावा जमीन पर भी रह सकती है जिंदा !

लेकिन पुरुषों में बेकुलम के नहीं होने के पीछे एक ही कारण है वो है बड़े अंडकोष होना हैं। ताकि वे अधिक शुक्राणु बना सकें। हालांकि, लिंग का आकार और बेकुलम में कोई संबंध नहीं लगता है।

इसी तरह मानव वंश को चिम्पांजियों और बोनोबोस से विभाजित हो जाने के बाद और हमारे संभोग प्रणाली को 2 करोड़ वर्ष पूर्व ही, बेकुलम को बनाए रखने के विकास की संभावनाएं गायब हो गई।

यह भी पढ़ें लाइट जाने पर कैसे आपके काम आ सकता है दुनिया का ये सबसे अद्धभुत मेंढ़क! जानिए क्या है इसमें खास

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here