कौन कहता है पेड़ों से पैसा नहीं उगता, मिलिए इस शख्स से हर महीने करता हैं 5 लाख की कमाई

0
41

जयपुर। जैसा की आप जानते हैं कि आजकल लोग बढ़ती हुई जनसंख्या तथा उनकी बढ़ती हुई जरूरतों के कारण लगातार पेड़ों को काट रहे है। ऐसे में आज हम आपको इस आर्टिकल में एक ऐसे शख्स के बारे में बताने जा रहे हैं। जिसने इन पेड़ों की बचाने की ठान ली। तथा अब इनसे हर साल 50,0000 रपये महिने कमा रहा है। आपकी जानकारी के लिए बात दें कि हैदराबाद में रहने वाले राम चंद्र अप्पारी ने अपनी नौकरी छोड़ कर एक बिजनेस शुरू किया है। इस बिजनेस में राम चंद्र पेड़ो को कटने से बचाकर हर महीने 5,00,000 रुपये कमाते हैं।

बता दें कि एक दिन राम चंद्र अप्पारी किसी काम के चलते बाहर जा रहे थे। इस दौरान उन्होंने देखा कि सड़क को चौड़ी करने के लिए पेड़ों को काटा जा रहा था। जिसे देखकर राम चंद्र ने विचार बनाया कि कोई तो ऐसा रास्ता होगा जिसमें इन पेड़ों को काटने से बचाया जा सकता हो। जिसके बाद राम चंद्र ने ट्रांसलोकेशन के बारे में सुना। तथा कुछ दिन बाद रामचंद्र ने पेड़ों का ट्रांसलोकेशन करने का बिजनेस शुरू किया।

आपकी जानकारी के लिए बात दें कि राम चंद्र ने एग्रीकल्चर में मास्टर डिग्री और एग्री बिजनेस में एमबीए कर रखा हैं। तथा राम चंद्र केंपस प्लेसमेंट में प्राइवेट लाइफ इंश्योरेंस कंपनी में काम करते थे। तथा अब राम चंद्र ने ग्रीन मॉर्निंग हॉर्टिकल्चर सर्विस प्राइवेट लिमिटेड नाम की पेड़ों को ट्रांसलोकेशन करने वाली कंपनी बना दी है। यह कंपनी पेड़ों को बिना काटे एक जगह से दूसरी जगह शिफ्ट करती है।

बता दें कि रामचंद्र ने जब अपना ट्रांसलोकेशन का बिजनेस शुरू किया तो हैदराबाद मेट्रो रेल प्रोजेक्ट में इन्होंने पहला काम सौंपा गया। राम चंद्र ने मेट्रो रेल प्रोजेक्ट के तहत आने वाले 800 पेड़ों को दूसरी जगह सिफ्ट करना था। बता दें कि राम चंद्र पेड़ों को सावधानी से दूसरी जगह स्थानांतरित करते हैं। इसमें एक पेड़ को दूसरी जगह शिफ्ट करने से पहले पेड़ के चारों तरफ 3 मीटर तक का गड्ढा खोदा जाता है। इस गड्ढे में से सावधानी पूर्वक पेड़ को बिना तोड़े निकाल कर दूसरे गड्ढे में शिफ्ट कर देते हैं। तथा दूसरे गड्ढे में पेड़ की वृद्धि के लिए प्रमोटिंग हार्वेस्ट केमिकल डाला जाता है। आपकी जानकारी के लिए बात दें कि रामचंद्र की टीम अब तक 7000 पेड़ों को स्थानांतरित कर चुकी हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here