Throwback: अभिनेत्री रेखा की जिंदगी का ये सच आज भी नहीं जानते होंगे आप

0
109

बॉलीवुड की सदाबहान अभिनेत्री भानुरेखा गणेशन उर्फ रेखा की खूबसूरती और बेजोड़ अदाकारी आज भी लोगों को उनका ​दीवाना बनाती है। दशकों से न जानें कितने सितारे आए और चले गए लेकिन रेखा का मुकाबला आज तक कोई नहीं ले सका। वो आज भी अपने फैंस के दिलों पर राज करती हैं। जमाना कितनी ही करवट ले चुका हैं लेकिन उनकी खूबसूरती में कोई कमी नहीं आई है। आज रेखा का जन्मदिन है। इस खास मौकेर पर हम आपको उनकी जिंगदी के सफर पर ले चलते हैं —

रेखा की जिंदगी
रेखा का जन्म 10 अक्टूबर 1954 को मद्रास (अब चेन्नई) में हुआ था। उनके पिता का नाम जेमनी गणेशन है जो कि तमिल के मशहूर अभिनेता और उनकी मां पुष्पावल्ली तेलुगू अभिनेत्री थी। आपको बता दें कि रेखा को अपने पिता से शुरू से ही कोई लगाव नहीं था। इस बात का जिक्र उन्होंने एक इंटरव्यू के दौरान किया था। रेखा ने कहा था कि, मेरे लिए ‘फादर’ शब्द का कोई अर्थ नहीं है। मेरे लिए ‘फादर’ का मतलब चर्च का ‘फादर’ है। रेखा ने अपने अभिनय करियर की शुरूआत साल 1966 में आई तेलुगू फिल्म रंगुला रत्नम से किया था। इसमें वो बतौर बाल कलाकार के रूप में दिखाई दी थी। परिवार की आर्थिक स्थिति के कारण रेखा ने अभिनय को चुना।

हिंदी सिनेमा की शुरूआत
कुछ साउथ की फिल्में करने के बाद रेखा ने मुंबई की ओर रूख किया। लेकिन उनका ये सफर आसान नहीं था। इसका कारण था उनका सावंला रंग, लड़खड़ाती हुई हिंदी की वजह से उनको काफी मुसीबतों का सामना करना पड़ा। हालांकि बाद में उन्होंने अपनी पहली हिंदी फिल्म सावन भादों में काम किया। जो साल 1970 में रिलीज हुई थी। इस एक फिल्म से वो रातों रात मशहूर हो गई। बॉलीवुड में पैर जमाने के लिए रेखा ने हिंदी सीखी, साथ ही अपने रंग को संवारने के लिए काफी ज्यादा मेहनत भी की। सांवली से गोरी हुई रेखा के बारे में लोग कयास लगाने लगे कि उन्होंने विदेश से कोई स्पेशल ​क्रीम मंगवाई है, लेकिन एक बातचीत में उन्होंने इस बात को खारिज कर दिया और बताया कि ये सिर्फ योग से संभव हुआ है।

निजी जिंदगी
रेखा का नाम बॉलीवुड के कई अभिनेताओं के साथ जोड़ा जा चुका है। लेकिन लंबे समय तक और सबसे ज्यादा सुर्खियों में अमिताभ बच्चन के साथ उनका नाम जुड़ा। दोनों ने एक साथ कई फिल्मों में काम किया जिसमें ईमान धरम, गंगा की सौगंध, मुकद्दर का सिकंदर और सुहाग जैसी फिल्में शामिल हैं। दोनों की आखिरी फिल्म यश चोपड़ा की सिलसिला थी।

रेखा से जुड़ा एक और किस्सा हे। रेखा की शादी विनोद मेहरा से हुई थी ऐसा कहा जाता है कि जब रेखा और विनोद कोलकाता में शादी करने के बाद मुंबई लौटे तो नई नवेली का स्वागत चप्पल से किया गया। जी हां विनोद की मां यानी रेखा की सास कमला इस शादी को लेकर बेहद नाराज थी। जैसे ही रेखा आर्शिवाद लेने के लिए झुकी तो विनोद की मां ने उन्हें ढकेल दिया। हालांकि रेखा ने आजतक नहीं माना कि उन्होंने विनोद मेहरा से शादी की थी। इतनी परेशानियों को झेलने के बाद भी रेखा ने हार नहीं मानी। अपना हौसला बनाए रखा और निरंतर कामयाबी की ​सीढ़ियां चढ़ती गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here