क्या करें जब मौसमी बीमारियाँ सताएँ और बचना हो एंटीबायोटिक दवाओं के सेवन से भी

मौसम अब बदल रहा है ।सुबह और रात में हल्की सर्दी पड़ने लगी है और दिन में गर्मी । इस मौसम में बीमारियाँ सबसे तेज़ी से फैलती है ।

0
168

 

जयपुर । मौसम अब बदल रहा है ।सुभा और रात में हल्की सर्दी पड़ने लगी है और दिन में गर्मी । इस मौसम में बीमारियाँ सबसे तेज़ी से फैलती है । लोग बहुत ज्यादा बीमार पड़ते हैं । कई कई लोगों को तो मौसम से इतनी ज्यादा जल्दी प्रभाव पड़ता है की मौसम बदला नहीं की वो बीमार पड़ जाते हैं । यही ही समय होता है जब हमको खुद के प्रति बहुत सावधानी बरतने की जरूरत पड़ती है ।

लोग ध्यान नही रखते हैं और ठंडा पानी पीते ही रहते हैं । इसके साथ ही ओढ़ने पहनने का भी ध्यान नहीं रखते हैं । इसके कारण मौसमी बीमारियाँ बहुत तेज़ी से फेलती है । आज हम आपको इन बीमारियों से बचने का बहुत ही अच्छा और शानदार तरीका बताने जा रहे हैं । इन मौसमी बीमारियों को ठीक करने के लिए आपको एंटीबायोटिक दवाओ का सेवन करने की भी जरूरत नहीं होगी । आइए जानते हैं क्या किया जाये ऐसे में ।

तुलसी अधरक और काली मिर्च की चाय :- जब भी आपको खांसी जुकाम , बुखार और गले में इन्फेक्शन की परेशानी हो तो चाय में अधरक के साथ 7-8 तुलसी के पत्ते ,  काली मिर्च को पीस कर दाल दें और उसका सेवन करें । इन तीनों में ही एंटी बायोटिक और एंटी इनफ्लेमेटरी गुण पाये जाते है ।

लॉन्ग और शहद :- शहद में लॉन्ग को पीस कर उसको दिन में लगभग 3-4 बार सेवन करें इससे भी आपकी परेशानी का अंत हो जाएगा ।अधरक को हल्के घी में सेक कर आप उस पर सेंधा नमक दाल लें । और जब भी आपको गले में परेसनी हो या खांसी की परेशानी हो तो इसका सेवन करें आपको लाभ होगा ।

दूध में हल्दी मिला कर पीने के अलावा आप गरम पानी में हल्दी और नमक दाल कर गरारे करें इससे आपको  बहुत लाभ होगा ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here