क्या हैं क्रायो थेरेपी के नुकसान , क्या हो सकता है जरा सी लापरवाही से आपका अंजाम

क्रायो थेरेपी असल में व थेरेपी हैं जिसमें एक बंद कमरे में माइनस -100 की हवा 4-5व मिनिट तक फ़एकी जाती है उसके बाद व्यक्ति को बिना कपड़ों के वहाँ रखा जाता है

0
83

जयपुर । क्रायो थेरेपी असल में व थेरेपी हैं जिसमें एक बंद कमरे में माइनस -100 की हवा 4-5व मिनिट तक फ़एकी जाती है उसके बाद व्यक्ति को बिना कपड़ों के वहाँ रखा जाता है । असल में यहा हवा नाइट्रोजन होती है जो की टुंटर शरीर की परेशानियों पर असर करती है ।
इस थेरेपी से शरीर की सूजन , शरीर की एथन और कमजोर मांसपेशियो और खिंचाव के साथ साथ यह मोटापे और तिल , मस्सों को भी ठीक करने का काम करता है स्किन का भी इससे इलाजकीय जाता है । पर वह कहते हैं ना की हर सिक्के के दो पहलू होते ही हैं ।
यह थेरेपी जितना फायदा करती है उतनी ही घातक और नुकसान दायक भी हो सकती है । कोई भी चीज़ की अति भी बुरी होती है और सबसे बड़ी बात इस थेरेपी में समय का सबसे ज्यादा ध्यान रखना पड़ता है । आइये जानते हैं क्या नुकसान हो सकता है इस थेरेपी से ।
इस थेरेपी को खुले घाव वाले व्यक्ति नहीं करवा सकते इससे उनके घाव पर बुरा प्रभाव पड़ता है ।
स्किन में जलन की परेशानी उठ सकती है ।
शरीर सुन्न पड़ना इस थेरेपी का सबसे कमजोर पॉइंट है इससे व्यक्ति को शरीर में खून का दौरा रुकने की परेशानी हो सकती है ।
यदि 4-5 मिनिट से ज्यादा इस थेरेपी को लिया जाये तो व्यक्ति की जान पर भी बात आ सकती है ।
इस थेरेपी का असर बहुत ही कम समय के लिए रहता है ।
दिल के डायबिटीज़ के मरीजों को यह ठेट्रेपी दी नहीं जा सकती ।
त्वचा का लाला हो जाना , चुभन का अहसास होना और सुन्न हो जाने की परेशानी यदि 24 घंटे तक में ठीक ना ह0ओ तो आपको तुरंत डॉक्टर्स की आउर रुख करना बहुत ही जरूरी है ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here