कश्मीर में लगे प्रतिबंध और हिरासत में लिए गए लोगों के दस्तावेज़ हमारे पास नहीं: गृह मंत्रालय

0
51

जयपुर। जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को हटाए जाने में करीब 2 महीने से भी ज्यादा का समय बीत चुका है लेकिन अभी भी जम्मू-कश्मीर में इंटरनेट के इस्तेमाल पर प्रतिबंध लगा हुआ है और इसके अलावा वहां के कई नेताओं और सामाजिक कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले रखा है.

वहीं अभी सभी मामलों में गृह मंत्रालय के द्वारा एक बात कही गई है और उन्होंने कहा है कि उनके पास जम्मू-कश्मीर में लगाए गए प्रतिबंधों और हिरासत में रखे गए लोगों के संबंध में कोई भी दस्तावेज नहीं है. आपको बता दें कि एक आरटीआई कार्यकर्ता व्यंकटेश नायक द्वारा दायर करेगा एक आवेदन के जवाब में मंत्रालय द्वारा यह बात कही गई है और साफ तौर पर कहा गया है कि उन्होंने किसी के भी किसी भी तरह के के दस्तावेजों को अपने पास नहीं रखा है.

आपको बता दें कि अगस्त के महीने में ही केंद्र सरकार द्वारा जम्मू कश्मीर में धारा 370 के अधिकतर प्रावधानों को हटा दिया गया था और उसके बाद जम्मू-कश्मीर को 2 केंद्र शासित प्रदेशों में बांट दिया गया था आपको बता दें कि तब से ही प्रदेश में इंटरनेट सेवाओं को बंद कर दिया गया है कई जगहों पर मोबाइल सेवाओं और लैंडलाइन सेवाओं को भी बंद रखा गया है बहुत कम जगह है पर मोबाइल की सेवा उपलब्ध कराई जा रही है. इसके साथ-साथ घाटी के कई नेताओं को अभी घर में गिरफ्तार कर कर रखा गया है जिसे लेकर लगातार सवाल किए जा रहे हैं कि अगर जम्मू कश्मीर में स्थिति सामान्य हो चुकी है तो नेताओं को रिहा क्यों नहीं किया जा रहा है.

वहीं आपको बता दें कि अब अंतरराष्ट्रीय एजेंसियों द्वारा भी लगातार केंद्र सरकार से यह गुजारिश करी जा रही है कि वह अब घाटी में सामान्यता लाने के लिए इंटरनेट जैसी सेवाओं को शुरू करें और इसके साथ-साथ कर्फ्यू जैसी व्यवस्था को भी घाटी में खत्म करें ताकि लोगों का जनजीवन सामान्य हो सके.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here