उत्तर प्रदेश में नदियों का जलस्तर घटा, अब कटान ने बढ़ाई मुसीबत

0
72

उत्तर प्रदेश में कुछ नदियों का जलस्तर तो कम हो गया है, मगर अब कटान के कारण लोगों की मुसीबतें बढ़ती जा रही हैं। इस समय पलियांकला से बहने वाली शारदा नदी खतरे के निशान पर चल रही है और आसपास बसे लोगों को कटान का डर सता रहा है। राप्ती और घाघरा नदी में पानी बढ़ने से गोरखपुर और संत कबीर नगर में बाढ़ का खतरा बढ़ रहा है। बलरामपुर, महराजगंज, श्रावस्ती में कटान के कारण लोगों की मुसीबतें बढ़ती जा रही हैं।

गोरखपुर और संत कबीर नगर के दक्षिण छोर पर स्थित खड़गपुर-शाहपुर बांध खजनी तहसील क्षेत्र में गायघाट और ढबिया गांव के पास कई जगह कट गया है। बांध के उत्तर तरफ बारिश का पानी है और दक्षिण तरफ घाघरा नदी का। ऐसे में जलस्तर जरा भी और बढ़ा तो क्षतिग्रस्त बांध पानी को रोक नहीं पाएगा।

खजनी तहसील के ग्रामीणों का कहना है कि सरकार हमेशा बाढ़ से त्रासदी का इंतजार करती है। यहां पर किसी भी समय पानी बढ़ने से बाढ़ का खतरा ज्यादा बढ़ सकता है, लेकिन सिंचाई विभाग की ओर जिस तरह की मदद मिलनी चाहिए, वह नहीं मिल रही है।

यहां के किसान राजू ने बताया, “हमारे यहां बांध में कटान का डर हमेशा बना रहता है। उमरिया बजार से लेकर ढबिया तक कई जगह कटान शुरू हो गई है। सिंचाई विभाग अभी तक यहां का सुध नहीं ले रहा है।”

स्थानीय लोगों ने बताया कि नेपाल का पानी घाघरा में आ गया है, इसलिए बांध के कारण अपने को सुरक्षित महसूस कर रहे ग्रामीण अब सहम गए हैं।

उप्र के सिंचाई मंत्री धर्मपाल सिंह ने कहा, “नेपाल से पानी आ रहा है, इसलिए किसी भी बांध की सुरक्षा को लेकर कोई कोताही नहीं बरती जाएगी। पूरी जानकारी लेकर इस बांध की सुरक्षा के लिए अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं। लोगों को परेशानी ना हो इस पर हमारा पूरा ध्यान है।”

अब शारदा नदी भी शांत नजर आने लगी है। इसलिए गांवों में बाढ़ का खतरा टल गया है। हालांकि नदी अब भी खतरे के निशान के आसपास ही बह रही है। माना जा रहा है कि बारिश नहीं होती है तो स्थिति सामान्य हो जाएगी।

बीते दो दिनों से शारदा नदी का जलस्तर लगातार कम हो रहा है। जलस्तर इस समय खतरे के निशान के आसपास ही है। नदी का बहाव भीरा की तरफ तेज है, जबकि श्रीनगर गांव की तरफ नदी धीमी गति से बह रही है। ढखिया, दौलतापुर, कचनारा, आजादनगर, बर्बादनगर आदि गांवों में नदी का रुख शांत है। ग्रामीणों ने बताया कि हल्की सी बारिश में ही नदी का जलस्तर बढ़ जाता है, अगर तेज बारिश हुई तो नदी तबाही मचा सकती है।

बलरामपुर में कटान के कारण पचवेड़ा क्षेत्र के माधवा नगर खादर व परसौना गांव में बांध की कटान रोकने के लिए बोरियां डाली गई थीं, लेकिन वह बह गईं।

पचवेड़ा के प्रधान गुड्डू ने बताया कि राप्ती की कटान से हर वर्ष लगभग 25 गांव प्रभावित होते हैं। बीते दिनों कटे हुए बांध पर ट्रैक्टर ट्राली से मिट्टी डालकर बोरियां रखी गई थीं, जो बांध में कटान के कारण बह गई हैं।

सिंचाई एवं जल संसाधान विभाग के मुख्य अभियंता ए़ के. सिंह ने बताया कि शारदा नदी अभी भी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है। इसका जलस्तर 153़ 910 क्यूसेक है। इसमें 0़290 की बढ़ोतरी हुई है। इसका खतरे का निशान 153़ 620 है। वहीं राप्ती शनिवार को स्थिर है। यह 126़ 7 गेज मीटर से बह रही है। जबकि इसका खतरे का निशान 127़ 7 होता है। घाघरा भी आज स्थिर दिखाई दे रही है। इसका जलस्तर 63़ 30 है। जबकि इसका खतरे का निशान 64़ 01 क्यूसेक पर है।

बाढ़ राहत आपदा प्रबंधन विभाग कार्यालय के पदाधिकारियों ने बताया कि अब कुछ नदियों का जलस्तर घटने लगा है। कुछ जगहों पर कटान शुरू हो गई है। ऐसे में सारी चौकियों को अलर्ट कर दिया है। एनडीआरएफ की टीम भी चौकन्ना है। जहां पर बाढ़ का खतरा देखा जा रहा है, वहां से लोगों को सुरक्षित जगह पहुंचाया जा रहा है। उन तक खाने-पीने का समान भी पहुंचाया जा रहा है।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleशीला दीक्षित की पहले भी हो चुकी थी कई सर्जरी
Next article‘ड्रीम गर्ल’ के लिए सिर्फ आयुष्मान पसंद : निर्देशक
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here