पार्क को कब्रिस्तान बताकर कब्जा कर रहा वक्फ बोर्ड, विहिप ने की एलजी से शिकायत

0

विश्व हिंदू परिषद(विहिप) ने दिल्ली वक्फ बोर्ड पर इंद्रप्रस्थ मिलेनियम पार्क पर अवैध कब्जे की कोशिशों का आरोप लगाते हुए उप राज्यपाल से शिकायत की है। इंद्रप्रस्थ विहिप के अध्यक्ष कपिल खन्ना ने इस संबंध में उपराज्यपाल के साथ क्षेत्रीय सांसद गौतम गंभीर को भी पत्र लिखा है। उन्होंने कहा है कि डीडीए के इस सुंदर उपवन पर लॉकडाउन की आड़ में किए गए अनाधिकृत कब्जे को विहिप ने फिलहाल स्थानीय नागरिकों के प्रयास से रोका है। लेकिन दिल्ली वक्फ बोर्ड कोरोना का कब्रिस्तान बताकर बार-बार दिल्ली के इस प्रतिष्ठित इंद्रप्रस्थ मिलेनियम पार्क पर अवैध कब्जा करने के नए नए हथकंडे अपना रहा है। कोरोना संक्रमित व्यक्तियों के शव को पार्क में दफनाने की कोशिश हो रही है। जिससे स्थानीय लोग आक्रोशित हैं।

विहिप ने कहा है कि बीते रविवार 17 मई को पार्क का ताला तोड़कर कुछ लोगों ने उसमें घुसकर अवैध कब्जा करने की कोशिश की। दो दिन तक पुलिस की मिलीभगत से पार्क को जेसीबी से उजाड़ने की कोशिश हुई। सूचना पाकर पहुंचे विहिप कार्यकतार्ओं ने उन्हें खदेड़ दिया। विश्व हिंदू परिषद ने मांग की है कि पार्क में अवैध कब्जा करने वालों तथा उनका साथ देने वालों के विरुद्ध कठोर कार्रवाई हो तथा पार्क के गेट पर जड़े कब्रिस्तान के बोर्ड को अबिलम्ब हटाया जाए।

विहिप के राष्ट्रीय प्रवक्ता विनोद बंसल का कहना है कि राजधानी के इस प्रतिष्ठित सुरम्य उद्यान को कब्रिस्तान बनाने की किसी भी कोशिश या उसके षड्यंत्र का मुंहतोड़ जबाब दिया जाएगा।

बता दें कि दिल्ली वक्फ बोर्ड ने 9 अप्रेल को एक पत्र दिल्ली सरकार को लिखकर इस पार्क को कब्रिस्तान बता वहां पर दिल्ली के कोविड 19 संक्रमित शवों को दफनाने की मांग की थी। इस पर राज्य सरकार ने अभी तक अधिकृत रूप से तो कोई निर्णय नहीं लिया है किंतु पीछे के दरवाजे से वक्फ बोर्ड से जुड़े लोग पार्क पर अवैध कब्जा करने की कोशिश कर रहे हैं। नंगली रजापुर गांव की स्थानीय आरडब्ल्यूए के पदाधिकारियों का भी कहना है कि वे पार्क को किसी भी कीमत पर कोविड-19 का कब्रिस्तान नहीं बनने देंगे।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleपाकिस्तान की स्वात घाटी में आतंकवादी फिर से सक्रिय
Next articleकांग्रेस राजस्थान व पंजाब के श्रमिकों की मदद क्यों नहीं कर रही : दिनेश शर्मा
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here