फॉक्सवैगन 2026 के बाद से केवल इलेक्ट्रिक वाहनों का करेगी निर्माण, जल्द करने जा रही है यह काम

0
36

जयपुर। दुनिया पॉपुलर ऑटोमोबाईल निर्माता कंपनी फॉक्सवैगन ने घोषणा की है कि वह 2026 के बाद से केवल इलेक्ट्रिक व्हीकल को ही तैयार करेगी। कंपनी 2026 के बाद  पेट्रोल और डीजल इंजन की कारें बनाना बंद कर देगी। ये नई योजना फॉक्सवैगन ग्रूप के अंतर्गत आनेवाली सभी सब ब्रांड कंपनियों पर लागू होगा। आपको बता दें कि फॉक्सवैगन ग्रूप के अंतर्गत   फॉक्वैगन, ऑडी, सीट, स्कोडा, पोर्शे, बेंटले, लेम्बोर्गिनी और बुगाटी के साथ और भी कई कंपनियां वाहनों का निर्माण करती है।

यह ऐलान कंपनी के स्ट्रेटजी प्रमुख माइकल जॉस्ट ने जर्मनी के वोल्फ्सबर्ग में चल रहे ऑटोमेटिव कॉन्फरेंस के दौरान किया है। आने वाले समय में कंपनी केवल ईको फ्रेंडली और कम उत्सर्जन वाले इलेक्ट्रिक इंजन वाली कारों का निर्माण करेगी।

कॉन्फरेंस में जॉस्ट कहा कि हम ईंधन जलाकर चलने वाले इंजन कारों के निर्माण से हम खुद को धीरे-धीरे दूर कर रहे हैं। यहां आपकी जानकारी के लिए बता दें कि कुछ वर्षों पहले हुए डीजल-गेट स्कैंडल से फॉक्सवैगन को कड़ा झटका लगा था और इसमें कंपनी को करीब 27 बिलियन यूरो का जुर्माना भरना पड़ा था। इन चीजों को ध्यान में रखते हुए कंपनी डीजल-पेट्रोल कारों के निर्माण से खुद को पूरी तरह दूर करना चाहती है।

जानकारी के अनुसार, इस योजना पर कंपनी ने काम करना शुरु कर दिया है और पोर्शे टेकैन उसका पहला प्रोडक्ट हो सकता है। माना जा रहा है कि इस कार को अगले साल ग्लोबल मार्केट में लॉन्च किया जा सकता है। बता दें कि पिछले महीने कार निर्माता कंपनी ने इलेक्ट्रिक वाहनों पर 2023 तक 44 अरब यूरो (50 अरब डॉलर) के निवेश की घोषणा की थी।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here