Vidur niti: विदुर नीति अनुसार जिन लोगों के पास होती हैं ये चीजें, वो होते है भाग्यवान

0

महात्मा विदुर को कौन नहीं जानता हैं इनकी नीति में मनुष्य के कल्याण के लिए कई बातें बताई गई हैं। विदुर ने अपने अनुभव और ज्ञान से ऐसी कई नीतियां बताई हैं जिनका उपयोग महाभारत काल से ही किया जा रहा हैं। जो मनुष्य विदुर नीति को अपने जीवन में उतार लेता हैं वह सफलता को जरूर हासिल करता हैं तो आज हम आपको अपने इस लेख में विदुर की एक ऐसी नीति बताने जा रहे हैं जिसमें उन्होंने किसी भी सुखी मनुष्य के लिए कुछ चीजों का महत्व बताया हैं तो आइए जानते हैं।

विदुर नीति अनुसार जिन लोगों के पास आय के साधन नहीं होते हैं वास्तव में वह मनुष्य दुर्भाग्यशाली होता हैं और उसे जीवन में कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता हैं। वही जिन लोगों के पास आय के साधन होते हैं उन्हें खुद को भाग्यशाली मानना चाहिए। विदुर नीति के अनुसार जो स्त्री पुरुष मीठा बोलते हैं उनके ऊपर मां सरस्वती का आशीर्वाद होता हैं शास्त्र में ऐसी मान्यता हैं कि वाणी में मां सरस्वती का वास होता हैं। बुरे और कटु वचन बोलने वाले लोगों का स्वभाव भी उनकी भाषा की तरह ही बुरा बन जाता हैं। मधुर वाणी बोलने वाला व्यक्ति अपनी जरूरत को किसी की तृष्णा में परिवर्तित कर सकता हैं। विदुर के मुताबिक जो लोग मधुर वाणी के स्वामी होते हैं भाग्य भी उसका साथ देता हैं। जो लोग रोगों से मुक्त होते हैं वह धरती के तमाम सुखों का भोग कर सकता हैं। निरोगी काया का होना बहुत जरूरी हैं।

व्यक्ति के पास ज्ञान ही एक मात्र ऐसा धन हैं जिसे कोई चोरी नहीं कर सकता हैं और ना ही बांट सकता हैं शास्त्रों में इस बात का वर्णन है कि ज्ञान ही मनुष्य की सबसे बड़ी दौलत हैं। ज्ञानी व्यक्ति हर कार्य को पूरा कर सकता हैं वर्तमान समय में ज्ञान ही मनुष्य के लिए आय का सबसे बड़ा साधन बन चुका हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here