वास्तुविज्ञान: वास्तु अनुसार ऐसा होना चाहिए मेहमानों का कमरा

0

भारत देश में मेहमानों को भगवान कहा जाता हैं मेहमान भगवान का रूप होते हैं हर घर में मेहमानों के ठहरने के लिए एक अलग से कमरा जरूर बना होता हैं। वास्तुविज्ञान के मुताबिक घर के अन्य कमरों के साथ साथ मेहमानों वाले कमरे का वास्तु भी ठीक होना चाहिए। खासतौर पर उनकी सुख सुविधा से जुड़ी हर चीज वास्तु दिशा निर्देश के मुताबिक ही पड़ी होती चाहिए। तो आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि वास्तु अनुसार आपके घर का गेस्ट रूम कैसा होनेा चाहिए, तो आइए जानते हैं

आपको बता दें कि मेहमानों के लिए घर की उत्तर पश्चिम दिशा सबसे उत्तम मानी जाती हैं इस दिशा में ठहरने वाले मेहमान और आपके बीच अच्छे संबंध बने रहते हैं आपके अच्छे बुरे वक्त में उन अतिथियों का सहयोग हमेशा आपके साथ बना रहता हैं। घर की दक्षिण पूर्व दिशा में कभी भी गेस्ट रूम नहीं होना चाहिए। घर की यह दिशा वास्तु के मुताबिक धन आगमन की दिशा मानी जाती हैं वास्तुशास्त्र के अनुसार यश और प्रसिद्धि लाने वाली दिशा में केवल घर के मुखिया का ही कमरा होना उचित होता हैं इस दिशा में गेस्ट रूम होने से परिवार की आर्थिक स्थिति पर बुरा प्रभाव पड़ता हैं।

मेहमानों के कमरे में फूलों वाली पेंटिंग्स लगाना शुभ माना जाता हैं तस्वीरों के साथ आप उस कमरे में असली फूल भी रख सकते हैं भगवान समान मेहमानों का स्वागत फूलों के साथ करने से आपके रिश्तों में प्रेम और स्नेह को बढ़ावा मिलता हैं। सफेद, हल्का गुलाबी, पिस्ता ग्रीन या हल्का पीले रंग के फूल बहुत ही शुभ माने जाते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here