भगवान श्री गणेश करते हैं,घर के वास्तु दोष का निवारण ,जाने कैसे

0
30

भगवान श्री गणेश को विघ्नहरण एवं मंगलकरण करने वाला देवता माना जाता हैं।किसी भी कार्य को प्रारम्भ करने से पहले भगवान श्री गणेश जी का आर्शीवाद लेना चाहिए। क्योंकि सभी देवताओं मे भगवान श्री गणेश जी को प्रथम पूज्य देवता  माना जाता हैं।  एक मान्यता के अनुसार माना जाता है कि भगवान शिव क्रोध मे आकर श्री गणेश जी का सिर काट दिया।

लेकिन माता पार्वति के आग्रह करने पर हाथी का सिर काट कर भगवान श्री गणेश जी के लगाकर उनको जीवित किया गया।बुधवार के दिन गणेश का उपवास रखने से भगवान श्री गणेश जी महाराज अधिक प्रसन्न होकर आपको इच्छित फल प्रधान करते हैं। अत: बुधवार के दिन भगवान श्री गणेश जी के भोग लगाकर उनकी आरती का गानी चाहिए।

घर के मुख्य दरवाजे पर श्री गणेश जी की मूर्ति होनी चाहिए, जिससे आपके घर मे सुख शांति रहेगी।एक मान्यता के अनुसार भगवान श्री गणेश जी की सफेद मूर्ति या चित्र लगाने पर भगवान श्री गणेश अधिक प्रसन्न होते है।भगवान श्री गणेश जी को मोदक(लड्डू) और उनका वाहन मूषक अतिप्रिय हैं।

गणेश चतुर्थी के अवसर पर भगवान श्री गणेश जी के गुङ और मोदक का भोग लगाना चाहिए, जिससे भगवान श्री गणेश अधिक प्रसन्न होते हैं।माना जाता है कि कार्यक्षेत्र में विकास चाहने के लिए आपको खडे हुए भगवान श्री गणेश जी की मूर्ति लगाने चाहिए। तथा गणेश जी की मूर्ति के दोनो ओर रिद्धि-सिद्धि लिखा होना चाहिए। सुबह के समय भगवान गणेश जी के मंदिर मे जाकर उनकी आरती गानी चाहिए, और अपनी इच्छा के अनुसार भगवान श्री गणेश जी के मोदक(लड्डू) का भोग लगाना चाहिए। जिससे भगवान आपको इच्छित फल प्रदान करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here