वर्धमान म​हावीर कोटा विवि: विज्ञान वर्ग में अंतिम वर्ष के 60 में से 58 छात्र फेल, दोबारा परिणाम की मांग !

0

​वर्धमान महावीर कोटा विविद्यालय के रिजनल सेंटर जयपुर के विज्ञान वर्ग के जूलॉजी वर्ग के अंतिम वर्ष की परीक्षा देने वाले कई छात्रों को गलत परीक्षा परिणाम के तहत अनउर्तीर्ण कर दिया गया हैं । जिसके कारण छात्रों में इस परिणाम को लेकर काफी आक्रोश दिखाई दे रहा हैं । इतना ही नहीं इस परिणाम के लिए छात्रों की तरफ से कई बार विवि. से संपर्क भी किया गया हैं मगर अभी तक छात्रों को इसके लिए कोई संतुष्टी वाला जबाव नहीं दिया गया हैं । प्रायोगिक परीक्षा में जो छात्र उपस्थित थे उनको भी विवि. की तरफ से अनुपस्थित कर दिया गया हैं ।

ऐसे में छात्रों को आक्रोश सातवें आसमान पर है। इतना ही नहीं विवि. की तरफ से उन उन छात्रों को भी फेल कर दिया गया हैं जिन्होंने पिछले सत्र में 60 से 70 प्रतिशत अंक प्राप्त किए थे । अब आलम ये हैं कि छात्रों के द्वारा इस इस परिणाम को दोबारा से घोषित किए जाने की मांग की जा रही हैं । इसके साथ ही आपको बता दें कि, छात्रों के द्वारा इस संबंध में सोशल मीडिया पर मुहिम भी चलाई जा रही हैं ताकि उनको अपना सही परिणाम प्राप्त हो सके । दरअसल, 22 मई को कोटा विवि. के विज्ञान वर्ग के ज्योलॉजी का परिणाम घोषित किया गया था, जिसमें अधिकतर छात्रों को विवि. के द्वारा फेल कर दिया गया हैं ।

अब छात्रों का कहना हैं कि मार्च में उनकी परीक्षा हुई थी और मार्च में मोदी सरकार की तरफ से पूरे भारत में लॉकडाउन का ऐलान कर दिया था ऐसे में कॉपीयों को जांच के लिए बाहर नहीं भेजा गया जिसके कारण ऐसा परीक्षा परिणाम घोषित किया गया हैं । अब छात्रों के द्वारा कहा गया है कि इस पूरे प्रकरण की अच्छे तरीके से जांच होनी चाहिए ताकि उनके भविष्य पर कोई आंच नहीं आए । इस परिणाम को लेकर अब छात्रों की समझ में नहीं आ रहा है कि, उनको डिफॉल्टर का फार्म भरना चाहिए या नहीं क्योंकि विवि. की तरफ से डिफॉल्टर फार्म के लिए 31 मई तक का ही समय दिया गया हैं ।

 

SHARE
Previous articleकिसानों की चिंता, टिड्डी चट न कर जाए कपास, बाजरा की फसल
Next articleOPPO Reno 3 Pro फोन में डुअल कैमरा सेटअप दिया गया है, जानें इसकी कीमत और स्पेसिफिकेशन
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here