सोने का भाव 1 फीसदी टूटा, त्योहारी सीजन में जोरों पर होगी खरीदारी

0

अमेरिकी डॉलर में आई मजबूती से शुक्रवार को अंतर्राष्ट्रीय बाजार में सोने और चांदी की चमक फीकी पड़ गई, जिससे भारतीय बाजार में भी सोने का भाव एक फीसदी से ज्यादा टूटा, जबकि चांदी में तीन फीसदी से ज्यादा की गिरावट दर्ज की गई। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में सोना एक सप्ताह बाद 1,500 डॉलर प्रति औंस से नीचे लुढ़का है।

जानकार बताते हैं कि अमेरिकी डॉलर में आई मजबूती और अगले महीने चीन में लंबा अवकाश होने के कारण मुनाफावसूली बढ़ने से सोने और चांदी में गिरावट आई है।

हालांकि कमोडिटी बाजार विश्लेषक बताते हैं कि त्योहारी सीजन शुरू होने से पहले सोने और चांदी में गिरावट आने से खरीदारी जोर पकड़ेगी।

घरेलू वायदा बाजार मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज (एमसीएक्स) पर रात आठ बजे सोने के अक्टूबर अनुबंध में 376 रुपये यानी 0.99 फीसदी की गिरावट के साथ 37,418 रुपये प्रति 10 ग्राम पर कारोबार चल रहा था। वहीं, चांदी के दिसंबर अनुबंध में 1,334 रुपये यानी 2.88 फीसदी की गिरावट के साथ 45,046 रुपये प्रति किलोग्राम पर कारोबार चल रहा था।

अंतर्राष्ट्रीय वायदा बाजार कॉमेक्स पर सोने के दिसंबर वायदा अनुबंध में 17.05 डॉलर यानी 1.13 फीसदी की गिरावट के साथ 1,498.15 डॉलर प्रति औंस पर कारोबार चल रहा था, जबकि कारोबार के दौरान सोने का भाव 1,493.45 डॉलर प्रति औंस तक लुढ़का।

वहीं, चांदी के दिसंबर अनुबंध में 2.34 फीसदी की गिरावट के साथ 17.49 डॉलर प्रति औंस पर कारोबार चल रहा था।

केडिया कमोडिटी के डायरेक्टर अजय केडिया ने बताया कि चीन सोने और चांदी का बड़ा खरीदार है और वहां अगले महीने के आरंभ में पांच दिन का राष्ट्रीय अवकाश रहेगा जिसके कारण सोने और चांदी में मुनाफावसूली देखी जा रही है।

सोने और चांदी में सुस्ती का सबसे बड़ा कारण डॉलर में आई मजबूती है। विश्व की छह मुद्राओं के मुकाबले डॉलर की ताकत बताने वाला डॉलर इंडेक्स लगातार तीन दिनों की तेजी के साथ शुक्रवार को 98.95 के स्तर को छू गया।

इसके अलावा, अमेरिका और चीन के बीच व्यापारिक मसलों को सुलझाने की दिशा में नए दौर की वार्ता अगले महीने होने जा रही है, जिससे स्टॉक बाजार में फिर तेजी लौटी है। स्टॉक में आई तेजी से सोने और चांदी के प्रति निवेशकों का रुझान कमजोर हुआ है।

केडिया ने कहा कि हालांकि यह भारतीय बाजार में त्योहारी सीजन में आई गिरावट से ग्राहक खरीदारी के प्रति आकर्षित होंगे।

पितृपक्ष शनिवार को समाप्त हो रहा है और रविवार को नवरात्र आरंभ हो रहा है। नवरात्र के साथ ही खरीदारी का सीजन शुरू हो जाएगा।

जयपुर के आभूषण कारोबारी सुशील मेघराज ने बताया कि त्योहारी सीजन ग्राहक आमतौर पर भाव कम होने पर बुकिंग करवा लेते हैं और धनतेरस के शुभमुहूर्त में डिलीवरी लेते हैं।

न्यूज स्त्रेात आईएएनएस

SHARE
Previous articleBirthday Special: सुर साम्राज्ञी लता मंगेशकर की आवाज को लेकर मधुबाला ने रखी थी ये बड़ी शर्त
Next articleविश्व एथलेटिक्स चैम्पियनशिप (ऊंची कूद) : फाइनल से चूके श्रीशंकर
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here