अमेरिकी रक्षा कंपनियां आसान एफडीआई नियमों का लाभ उठाएं : Rajnath

0

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने मंगलवार को अमेरिकी रक्षा कंपनियों से इस क्षेत्र में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) नियमों में ढील का लाभ उठाने का आह्वान किया। भारत और अमेरिका के बीच टू प्लस टू वार्ता के बाद, उन्होंने कहा कि दोनों देशों के बीच सैन्य से सैन्य सहयोग से अच्छी प्रगति कर रहा है।

उन्होंने कहा, “दो दिनों की बैठक में, हमने संभावित क्षमता निर्माण और तीसरे देशों में हमारे पड़ोस और उससे परे की अन्य संयुक्त सहयोग गतिविधियों का पता लगाया।”

राजनाथ सिंह ने यह भी कहा कि भारत और अमेरिका दोनों ने भारत-प्रशांत क्षेत्र में सुरक्षा स्थिति का आकलन साझा किया है।

उन्होंने कहा, “उस प्रक्रिया में, हमने इस क्षेत्र में सभी देशों की शांति, स्थिरता और समृद्धि के लिए अपनी प्रतिबद्धता की फिर से पुष्टि की है।”

इंडो-पैसिफिक क्षेत्र में सुरक्षा स्थिति के बारे में, अमेरिकी रक्षा मंत्री मार्क टी. एस्पर ने कहा कि भारत-अमेरिका खासकर चीन की बढ़ती आक्रामकता को देखते हुए एक मुक्त इंडो-पैसिफिक क्षेत्र के लिए कंधे से कंधा मिलाकर खड़े हैं। उन्होंने यह भी कहा कि बढ़ती सुरक्षा चुनौतियों के मद्देनजर भारत-अमेरिका साझेदारी पहले से कहीं अधिक महत्वपूर्ण है।

आगामी नौसेना अभ्यास के बारे में, राजनाथ सिंह ने कहा कि दोनों देशों ने आगामी मालाबार अभ्यास में ऑस्ट्रेलिया के शामिल होने का स्वागत किया है।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने अमेरिका के साथ बेका (बीईसीए) पर हस्ताक्षर को एक ‘महत्वपूर्ण उपलब्धि’ बताया और कहा कि इससे सूचना साझाकरण में नए रास्ते खुलेंगे। उन्होंने कहा कि हम अमेरिका के साथ आगे के मुद्दों पर चर्चा करने के लिए उत्सुक हैं।

अमेरिका और भारत की टू प्लस टू वार्ता ऐसे समय पर हुई है, जब पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर भारत एवं चीन की सेनाएं आमने-सामने हैं और दोनों देशों के बीच 1962 के बाद सबसे गंभीर सैन्य तनाव व्याप्त है। इसी वजह से यह वार्ता काफी अहम मानी जा रही है।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleIPL 2020 से टीम इंडिया को लगा एक और बड़ा झटका, AUS दौरे से पहले चोटिल हुआ यह खिलाड़ी
Next articleAlia Bhatt: गंगूबाई काठियावाड़ी के बाद अगले सप्ताह आलिया शुरू करेंगी फिल्म RRR की एक्शन सीन की शूटिंग
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here