रूस की मिसाइल से दहशत में अमेरिका, चीन भी डरा, बचाव के लिए करेंगे ऐसा

0
111

जयपुर, हाल ही में रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने हाइपरसोनिक मिसाइल तैनाती की बात कही थी। जिसके बाद चीन व अमेरिका दोनों दहशत में नजर आ रहे हैं। पुतिन ने कहा था कि यह मिसाइल पूरी तरह से तैनाती के लिए तैयार है और यह अगले साल काम करना शूरू कर देगी। बता दें कि रूस ने इस मिसाइल का नाम एवनगार्ड रखा है। साथ ही दो दिन पहले रूस ने इस बात का भी दावा किया था कि अमेरिका के पास इसका कोई तोड़ नहीं हैं।

इस बयान ने विश्व के तमाम देशों के साथ साथ अमेरिका की भी चिंता को बढ़ा दिया है। नई प्रणाली के रणनीतिक हथियार वाला रूस दुनिया का पहला देश है। इस मिसाइल को लेकर रूस का कहना है कि यह मिसाइल उनकी रक्षा को विश्वसनीय बनाएगी। बता दें कि

रूस के पास पहले से ही किंझल हाइपरसोनिक मिसाइल मौजूद है जो हवा में मार करने में सक्षम है। किंझल दो हजार किलोमीटर तक निशाना साधने में सहायक है। इस मिसाइल के बारे में कहा जाता है कि सटीक निशाना इसकी सबसे बड़ी खासियत है।

जहां तक एवनगार्ड की बात है तो इसकी खूबिया जानने के बाद आप कहेंगे कि अमेरिका को चिंता होना स्वभाविक है। इस मिसाइल को लेकर अमेरिका के एक अधिकारी पहले ही कह चुके हैं। की उनका रडार सिस्टम आधुनिक मिसाइलों का पता लगाने में सक्षम नहीं है। उसे अपग्रेड करने की बहुत आवश्यकता है। उनका सिस्टम नई रणनीतिक मिसाइलों का पता नहीं लगा सकता है। वहीं अगर अब अमेरिका हाइपरसोनिक मिसाइल तैयार करता है तो करीब 100 करोड़ डॉलर का खर्च आएगा। बता दें कि रूस के परीक्षण के बाद से अमेरिका ने इसकी तैयारी भी शुरू कर दी है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here