दुनिया में Vaccine की समान आपूर्ति को आगे आए यूपीएस हैल्थकेयर एवं यूपीएस फाउंडेशन

0

यूपीएस फाउंडेशन एवं यूपीएस हैल्थकेयर कोविड-19 वैक्सीन की सतत वैश्विक आपूर्ति एवं एक समान वितरण की सुविधा देने के लिए तीव्रता से काम कर रहे हैं। कोवैक्स, गवि, द वैक्सीन अलायंस एवं केयर के सहयोग से यूपीएस प्रारंभ में उन देशों को 2 करोड़ खुराक के वितरण की सुविधा देगा, जहां वैक्सीन पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध नहीं है। यूपीएस इंटरनेशनल के प्रेसिडेंट, स्कॉट प्राईस ने कहा, “यह हमारी जवाबदेही है कि हम दुनिया में कोविड-19 वैक्सीन के एक समान वितरण की सुविधा दें। यूपीएस वैश्विक पब्लिक-प्राईवेट पार्टनरशिप्स के नेटवर्क में सक्रिय कार्य को प्रेरित कर रहा है, ताकि वैक्सीन ज्यादा प्रभावशाली एवं एक समान रूप से पहुंचाई जा सकें। हम उन देशों पर केंद्रित हैं, जहां संसाधन सीमित होने के साथ आपूर्ति सीरीज एवं बुनियादी ढांचा अपर्याप्त है। हमारा लक्ष्य सहज और प्रतिबद्धता अटल है। जो है सबसे अनमोल, उसे करीब ला रहा है, जहां को आगे बढ़ा रहा है।”

लेटेस्ट ग्लोबल वैक्सीनेशन की दर लगभग 60 लाख खुराक प्रतिदिन है। अनेक अध्ययनों के अनुसार, इस दर से चले तो दुनिया की 75 प्रतिशत जनसंख्या को वैक्सीन की दो खुराक देने में अनुमानित 5.4 साल का समय लगेगा। वैश्विक चुनौतियों, जैसे महामारी और इससे लड़ने के लिए वैक्सीन की आवश्यक उपलब्धता प्रदान करने के लिए वैश्विक समाधानों के निर्माण में पब्लिक प्राईवेट पार्टनरशिप्स एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं।

यूपीएस इसके लिए गठबंधनों का निर्माण करेगा क्योंकि वैश्विक सफलता सही गठबंधन करने और उनके विकास पर निर्भर होती है। इन प्रयासों को स्थापित करने और विकसित करने के लिए यूपीएस हैल्थकेयर एवं द यूपीएस फाउंडेशन, यूपीएस कोल्ड-चेन टेक्नॉलॉजी का इस्तेमाल करने वाले परिवहन के समाधान उपलब्ध कराएंगे। इसके अलावा बदलते वातावरण में एवं सही तापमान पर वैक्सीन की खुराक की उपयोगिता बनाए रखने के लिए जरूरी अल्ट्रा-लो टैंपरेचर फ्रीजर के दान की व्यवस्था करेंगे।

साथ ही साथ वे लॉजिस्टिक्स की विशेषज्ञता एवं स्ट्रीमलाईंड डिलीवरी के प्रबंधन के लिए वैक्सीन निर्माताओं और एनजीओ पार्टनर्स से सामंजस्य स्थापित करने के लिए यूपीएस से एक्जिक्यूटिव्स बुलाकर भेजे जाएंगे।

द यूपीएस फाउंडेशन केयर के फास्ट एंड फेयर अभियान को भी सहयोग दे रहा है, जो 11 प्रारंभिक देशों यादि बांग्लादेश, बेनिन, डेमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑफ कांगो, भारत, दक्षिण सूडान आदि में जोखिम वाले समूहों, जैसे स्वास्थ्यकर्मियों और केयरगिवर्स एवं शरणार्थियों को कोविड-19 वैक्सीन का एक समान वितरण की सुविधा देने पर केंद्रित है।

निक्की क्लिफटन, प्रेसिडेंट, द यूपीएस फाउंडेशन ने कहा, “एक वैश्विक समुदाय के रूप में हम एक दूसरे पर निर्भर हैं- जब तक हर कोई सुरक्षित न हो जाए, तब तक कोई भी सुरक्षित नहीं है। अब समय है जब हम दुनिया में काम कर रहे अपने अंगों को जोड़कर कड़ी बनाएं और संपत्ति एवं स्थान पर गौर किए बिना हर किसी को वैक्सीन व उम्मीद पहुंचाएं।”

न्यूज सत्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleApple Watch ने 51% वैश्विक बाजार में हिस्सेदारी हासिल की
Next articleCorona tips: अगर आप कोरोना से बचना चाहते हैं तो इन बातों का ध्यान रखें
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here