सवर्णों का भारत बंद, जानिए दिनभर की हलचल

0
145

जयपुर। एससी एसटी  एक्ट के विरोध में स्वर्ण समाज ने 6 सितम्बर को भारत बंद का ऐलान किया था, हालांकि स्वर्ण समाज के इस भारत बंद को पूरी तरह से सफल नहीं कहा जा सकता है लेकिन इस भारत बंद ने देश में कई जगह हलचल देखी गगई और ये हलचल बीजेपी के लिए खतरे की घंटी है। इस वक्त बीजेपी चारो ओर से घिरी हुई है।

राजस्थान, मध्य प्रदेश, और बिहार में इस स्वर्ण समाज के बंद के कुछ असर दिखे। बताया जा रहा है की मध्य प्रदेश के कई शहरों में धारा 144 लगा दी गई थी, वही कई जिलो में बंद का असर देखा गया। वहीं कुछ मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री के बेटे ने अपनी दूकान नहीं खोली जिसके बाद ये सवाल भी उठने लगे है की क्या शिवराज सिंह चौहान इस बंद का समर्थन कर रहे है। वहीं खबरे आ रही है की मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, मध्यप्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ, कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया  को काले झंडे दिखाए गए है।

अगर पुरे मध्य प्रदेश की बात करे तो कुछ छोटी मोटी झड़प को छोड़कर ये बंद शांति पूर्वक रहा है,  वहीं इस बंद की सबसे बड़ी बात ये रही की किसी भी दल ने खुलकर इस बंद को अपना समर्थन नहीं दिया है, यानी कोई भी चुनाव से पहले इस बंद को समर्थन कर दलित समाज को नाराज करने से बच रहा है।

वहीं इस राजनीति के चलते ब्राह्मण समाज जो बीजेपी का वोट बैंक रहा है, ब्राह्मण समाज के कई लोगों ने साफ़ कहा की आने वाले चुनावों में बीजेपी को वोट नहीं देगे बल्कि वो अपना वोट नोटा को देगे।

राजपूत करणी सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष महिपाल सिंह मकराना ने कहा- इस एक्ट में संशोधन कराने तक आंदोलन को शांत नहीं होने दिया जाएगा। 16 सितंबर को भिंड व मुरैना और 23 को चित्तौड़ में यही आंदोलन होगा। वहीं भागवताचार्य देवकीनंदन ठाकुर ने कहा है कि केंद्र सरकार अगले दो महीने में इस एक्ट को सुप्रीम कोर्ट के आदेशानुसार रूप में बदल दे। यदि ऐसा नहीं हुआ तो हम सब मिलकर देश को जातिगत राजनीति वाले दलों से स्थाई समाधान देंगे।

इस वक्त एससी एसटी एक्ट सरकार के लिए बड़ी परेशानी है और अगर समय रहते इस परेशानी का अगर कोई हल नहीं निकला तो बीजेपी के लिए आने वाला चुनाव कठिन हो सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here